ऑनलाइन आतंकवाद और हिंसा के खिलाफ गूगल, फेसबुक जैसी टॉप कंपनियां एकजुट

0
16
Terrorist attacks in Christchurch, New Zealand

सैन फ्रांसिस्को। माइक्रोसॉट, गूगल, फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब और ऐमजॉन जैसी दिग्गज आईटी कंपनियां न्यूजीलैंड क्राइस्टचर्च के आह्वान का समर्थन करने के लिए आगे आई हैं। क्राइस्टचर्च का उद्देश्य नौ बिंदुओं की योजना के माध्यम से ऑनलाइन रूप से फैल रहे आतंकवाद और हिंसा के खिलाफ अभियान (Terrorist attacks in Christchurch, New Zealand) छेड़ना है। प्रौद्योगिकी कंपनियों ने बुधवार को संयुक्त  बयान जारी कर कहा, ‘न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में हुए आतंकवादी हमले बहुत बड़ी त्रासदी थे। और इसलिए यह सही है कि हम यह प्रतिबद्धता जताएं कि आतंकवादी हमलों को अंजाम देने वाले घृणा और चरमपंथ के खिलाफ लड़ने के लिए हम वह सब कर रहे हैं जो हम कर सकते हैं।’

फेसबुक ने दावा किया था:

हालांकि, वाइट हाउस ने घोषणा की है कि वह न्यू जीलैंड के क्राइस्टचर्च में आतंकवादी हमले की प्रतिक्रिया के जवाब में ऑनलाइन चरमपंथ के खिलाफ कार्रवाई के अंतरराष्ट्रीय नेताओं के आह्वान का समर्थन नहीं करेगा। वाइट हाउस ने एक बयान जारी कर कहा कि वह फिलहाल इसका समर्थन करने की स्थिति में नहीं है। न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च शहर में दो मस्जिदों पर मार्च में हुए हमलों का फेसबुक पर लाइव स्ट्रीम चलने के बाद फेसबुक ने दावा किया था कि इसके 24 घंटों के अंदर उसने खुद क्राइस्टचर्च हमले के लगभग 15 लाख विडियो नष्ट किए थे। फेसबुक ने यह भी कहा कि उसने 12 लाख वीडियो को अपलोड होने के बाद प्रतिबंधित कर दिया था, जिसके बाद वे वीडियो यूजर्स नहीं देख पाए होंगे। क्राइस्टचर्च हमलों में 51 लोगों की मौत हो गई थी।

आतंकवाद और चरमपंथ :

आतंकवाद और चरमपंथ को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर फैलने से रोकने के कदमों पर चर्चा के लिए फेसबुक के ग्लोबल अफेयर्स और कयूनिकेशन के उपाध्यक्ष निक लेग ने जी सरकार और उद्योग जगत के नेताओं से बुधवार को पैरिस में बैठक की। फ्रांस के राष्ट्रपति इनैमुएल मैक्रों की अध्यक्षता में हुई बैठक में मैक्रों और न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा एर्डर्न, फेसबुक के साथ-साथ माइक्रोसॉट, ट्विटर, गूगल और ऐमजॉन ने क्राइस्टचर्च द्वारा कार्रवाई के आवाह्न् पर हस्ताक्षर किए। इसके तहत कंपनियां उन संदर्भों की साझा करेंगे, जिनमें आतंकवाद और हिंसक चरमपंथी कॉन्टेंट प्रकाशित होता है और
आतंकवादी और चरमपंथी कॉन्टेंट को और ज्यादा प्रभावशाली तरीके से प्लेटफॉर्म से हटाने के लिए तकनीक विकसित करेंगे।

  • न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्ज की दो मस्जिदों में शस ने गोलाबारी की थी
  • „सख्स द्वारा फेसबुक पर लाइव स्ट्रीम करके यह हमले हुए, इसमें 51 लोगों की मौत हुई
  • „क्राइस्टचर्च ने ऑनलाइन रूप से फैल रहे आतंकवाद और हिंसा के खिलाफ अभियान छेड़ा „
  • माइक्रोसॉट, गूगल, फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब और ऐमजॉन आईटी कंपनियों का मिला साथ
5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image