बंगाल में प्रचार पर समय से पहले लगी रोक- कांग्रेस ने ‘काला दिन’ बताया और TMC ने कहा- PM मोदी को मिला EC से गिफ्ट

0
15
Kolkata Violence

राज एक्सप्रेस, नई दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस ने कोलकाता में मंगलवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान हुई हिंसा (Kolkata Violence), की घटना को लेकर चुनाव आयोग से शिकायत की है और दोषी व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। ममता बनर्जी ने बुधवार को यहां प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि, मंगलवार को अमित शाह दंगा कराने के मूड में कोलकाता आए थे। वह बंगाल के बाहर से गुंडे लेकर आए थे और यहां रैली कर रहे थे। बिहार, महाराष्ट्र समेत अन्य राज्यों से असामाजिक तत्वों को बुलाकर यहां हिंसा करा रहे थे।

कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा :

कांग्रेस पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘लोकतंत्र के इतिहास में आज काला दिन है। पश्चिम बंगाल पर चुनाव आयोग के आदेश में अनुच्छेद 14 और 21 के अंतर्गत जरूरी प्रक्रिया का अनुपालन नहीं हुआ है तथा आयोग ने सबको समान अवसर देने के संवैधानिक कर्तव्य का निर्वहन भी नहीं किया। यह संविधान के साथ किया अक्षम्य विश्वासघात है।’

आयोग ने प्रचार पर रोक लगा दी, अमित शाह को नोटिस जारी क्यों नहीं किया?

बनर्जी ममता ने कहा कि, हिंसा के लिए अमित शाह जिम्मेदार हैं। शाह ने बंगाल और बंगालियों का अपमान किया है। अमित शाह के खिलाफ तत्काल कार्रवाई होनी चाहिए। अमित शाह के रोड शो में 20 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। उन्होंने कहा कि, अमित शाह ने बुधवार सुबह चुनाव आयोग को धमकी दी थी उसी का यह नतीजा है कि आयोग ने प्रचार पर रोक लगा दी है। आखिरकार चुनाव आयोग ने अमित शाह को नोटिस जारी क्यों नहीं किया?

बनर्जी ममता ने PM मोदी पर भी तंज कसते हुए कहा कि, PM मोदी ने एक बार भी विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ने को लेकर दुख जाहिर तक नहीं किया। ममता ने कहा कि, PM मोदी मुझसे डर गए हैं। ममता ने मोदी पर निजी हमला करते हुए कहा कि जो अपनी पत्नी की देखभाल नहीं कर सकते, देश की देखभाल कैसे कर सकते हैं। ममता ने कहा कि, “चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री मोदी को अच्छा गिफ्ट भेंट किया है जो ‘अभूतपूर्व, असंवैधानिक और अनैतिक’ है।”

आखिरी चरण के चुनाव से पहले बंगाल में भाजपा और टीएमसी आमने-सामने:

भाजपा ने हिंसा के लिए टीएमसी को जिम्मेदार ठहराया तो ममता बनर्जी ने भाजपा को रोड शो के दौरान हुए उपद्रव के लिए अमित शाह को दोषी करार दिया। बंगाल में सियासी हालात को देखते हुए चुनाव आयोग ने प्रचार पर रोक लगाने का फैसला किया है। चुनाव आयोग ने बंगाल की नौ सीटों पर 19 मई को चुनाव के अंतिम चरण के लिए, प्रचार को समय से पहले थामने के लिए संविधान के अनुच्छेद 324 को लागू किया है। आयोग ने पश्चिम बंगाल के प्रधान सचिव और CID के अतिरिक्त महानिदेशक को उनके पदों से हटाने का भी आदेश दिया है। इस पर बंगाल की CM ममता बनर्जी ने कहा कि, दोनों अधिकारियों को ‘चुनाव आयोग ने नहीं, बल्कि मोदी और अमित शाह ने हटाया है।’

बनर्जी ने कहा कि, PM नरेंद्र मोदी को हटाया जाना चाहिए और उन्हें देश से बाहर कर दिया जाना चाहिए। हिंसा के विरोध में बुधवार को पैदल मार्च निकालने के बाद देर शाम प्रेस कॉन्फ्रेंस कर उन्होंने भड़ास निकालते हुए कहा कि, नरेंद्र मोदी ने मेरा, बंगाल और बंगालियों का अपमान किया है। ऐसे में उन्हें हटाओ और देश से निकालो। आरोप लगाया कि शाह ने रोड शो पर 15-20 करोड़ खर्च किए।

वाम दलों के नेताओं ने किया प्रदर्शन:

अमित शाह के रोड शो के दौरान हुई हिंसा के कारण वाम दलों के प्रमुख बड़े नेता इसके विरोध में बुधवार को सड़कों पर उतर आए। इस बीच पुलिस ने तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच हुए हिंसक झड़प को लेकर दो अलग-अलग मामला दर्ज करके 58 लोगों को गिरफ्तार किया है। दोनों पक्षों के बीच झड़प में काफी लोग घायल भी हुए हैं।

यह भी पढ़ें : कोलकाता हिंसा : ममता बनर्जी का BJP पर आरोप- हिंसा भड़काने के लिए बाहर से पैसे और लोगों ला रही है

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image