राजनाथ सिंह से मुलाकात के बाद बोली महबूबा मुफ्ती, घाटी में हिंसा की घटनाओं में आई कमी

0
27

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में केन्द्र सरकार की नये सिरे से वार्ता प्रक्रिया शुरू करने की हाल की घोषणा के बाद राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने आज गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात के बाद कहा कि घाटी में हिंसा की घटनाओं में कमी आई है।

दोनों नेताओं की मुलाकात के दौरान राज्य में प्रधानमंत्री विकास पैकेज की परियोजनाओं के बारे में व्यापक चर्चा हुई और इनके काम में तेजी लाने का निर्णय लिया गया। सीमावर्ती क्षेत्रों में विकास परियोजनाओं को तेजी से पूरा करने तथा लोगों की सुरक्षा के लिए बंकर बनाने के काम को जल्द पूरा पर विशेष जोर दिया गया। बैठक में गृह राज्य मंत्री हंसराज गंगाराम अहीर, केन्द्रीय गृह सचिव राजीव गौबा, जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव और केन्द्र तथा राज्य के कई वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। केन्द्र ने राज्य में नये सिरे से वार्ता प्रक्रिया शुरू करने के लिए गुप्तचर ब्यूरो के पूर्व प्रमुख दिनेश्वर शर्मा को नया वार्ताकार नियुक्त किया है।

15 दिनों में महबूबा मुफ्ती की गृहमंत्री से दूसरी मुलाकात

केन्द्र द्वारा जम्मू -कश्मीर में बातचीत के लिए नये वार्ताकार की नियुक्ति के बाद पहली बार दिल्ली आई सुश्री मुफ्ती ने गृह मंत्री के साथ राज्य की मौजूदा राजनीतिक स्थिति पर चर्चा की। उन्होंने केन्द्र की इस पहल का स्वागत किया है । पिछले 15 दिनों में सुश्री मुफ्ती की गृह मंत्री के साथ यह दूसरी मुलाकात है।

प्रधानमंत्री के विकास पैकेज के तहत 80 हजार करोड़ रूपये की घोषणा

बैठक में सड़क , ऊर्जा और स्वास्थ्य क्षेत्र की ढांचागत परियोजनाओं के लिए भूमि उपलब्ध कराने पर भी चर्चा हुई। जम्मू-कश्मीर के लिए प्रधानमंत्री के विकास पैकेज के तहत 80 हजार करोड़ रूपये से अधिक की राशि की घोषणा की गयी थी। इसमें से 62 हजार करोड़ रूपये से अधिक राशि स्वीकृत की जा चुकी है और 22 हजार करोड़ रूपये से अधिक राशि जारी की गयी है।

कश्मीरी विस्थापकों और स्थानीय युवकों को रोजगार मुहैया कराने वाले कार्यक्रमों में तेजी लाने प्रत्यक्ष हस्तांतरण योजना के तहत मदद पहुंचाने के काम में तेजी लाने का भी निर्णय लिया गया। सुश्री मुफ्ती ने कहा ,”प्रधानमंत्री विकास परियोजना के तहत विकास का काम चल रहा है। राज्य में एम्स और आईआईएम बनाये जा रहे हैं।”

सूत्रों के अनुसार दोनों नेताओं की मुलाकात के दौरान जम्मू-कश्मीर में पंचायत चुनाव के बारे में भी चर्चा हुई। राज्य में आखिरी पंचायत चुनाव 2011 में हुए थे। पंचायत चुनाव पिछले साल ही होने थे लेकिन आतंकवादी सरगना बुरहान वानी के मुठभेड़ में मारे जाने के बाद घाटी में उत्पन्न तनावपूर्ण स्थिति के चलते चुनाव नहीं कराये जा सके थे।

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here