रिजर्व बैंक ने फिर दी खुशी

0
37
Reserve Bank of India Good News

राज एक्सप्रेस, भोपाल। Reserve Bank of India Good News: भारतीय रिजर्व बैंक ने देश को दो खुशखबरी दी है। रेपो रेट में कटौती की गई। ऑनलाइन तरीके से पैसा भेजने पर लगने वाला शुल्क खत्म कर दिया गया है। एटीएम पर लगने वाले शुल्क को खत्म करने पर भी विचार जारी है। उम्मीद है कि जल्द राहत मिलेगी।

भारतीय रिजर्व बैंक ने गुरुवार को देश को दो खुशखबरी दी है। पहली-रेपो रेट में कटौती की गई, तो दूसरी-ऑनलाइन तरीके से पैसा भेजने पर लगने वाला शुल्क खत्म कर दिया गया है। भारतीय रिजर्व बैंक ने कर्जधारकों को राहत देते हुए, रेपो रेट में 25 बेसिस अंकों की कटौती की है। एक साल में यह लगातार तीसरा मौका है, जब केंद्रीय बैंक ने दरों में कटौती की है। केंद्रीय बैंक ने रेपो रेट को अब 6 फीसदी से घटाकर 5.75 फीसदी कर दिया है। इसके साथ ही रिवर्स रेपो रेट भी अब 5.75 फीसदी की बजाय 5.50 फीसदी हो गई है। इस कैलेंडर इयर में अब तक केंद्रीय बैंक ने 75 बेसिस अंक की कटौती की है। एक बेसिस पॉइंट एक फीसदी के सौवें हिस्से के बराबर होता है। रेपो रेट में कमी का कर्ज लेने वालों पर सीधा असर होगा, क्योंकि बैंक कर्ज पर ब्याज दर घटा सकते हैं। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि रेपो रेट में कटौती का मतलब बैंकों का मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट भी घट जाएगा। घटे रेपो रेट का फायदा पहुंचाना रिजर्व बैंक के लिए चुनौती है।

दरअसल, जब आरबीआई रेपो रेट में कटौती करता है, तो बैंक भी उसके हिसाब से आपकी ईएमआई में बदलाव करते हैं, लेकिन कई बार देखा गया है कि, अगर रिजर्व बैंक द्वारा लोन महंगा किया गया, तो बैंक तत्काल प्रभाव से नई दरें लागू कर देते हैं, मगर ग्राहकों को राहत देते समय आनाकानी करते हैं। पिछले दो बार रेपो रेट में कटौती के बाद बैंकों पर रिजर्व बैंक को दबाव बनाना पड़ा, तब कहीं जाकर बैंकों ने लोन पर राहत देनी शुरू की। इस बार की मौद्रिक समीक्षा बैठक पर पूरे देश की निगाह थी। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल की शुरुआत में ही होने वाली इस बैठक से हर किसी को राहत की उम्मीद थी। ऐसा इसलिए सरकार भी अपने कार्यकाल के पहले माह में ही देश को बढ़ी लोन दरों का तोहफा नहीं देना चाहती थी। इसलिए रिजर्व बैंक के साथ तात्कालिक समस्याओं का हल निकाला गया और रेपो रेट में कटौती का रास्ता तैयार हुआ। रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में कटौती कर इतिहास भी बनाया है। ऐसा पहली बार हुआ है, जब लगातार तीन बार रेपो रेट में कटौती की गई हो।

ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करने वालों को भी आरबीआई से खुशखबरी मिली है। दरअसल, रिजर्व बैंक ने आरटीजीएस और एनईएफटी लेनदेन पर लगाए गए शुल्क को हटा दिया है। इसका मतलब यह हुआ कि अब आरटीजीएस और एनईएफटी के जरिए ट्रांजेक्शन करने वाले लोगों को किसी भी तरह का एक्स्ट्रा चार्ज नहीं देना होगा। रिजर्व बैंक की ओर से एटीएम ट्रांजेक्शन चार्ज को लेकर भी बड़े फैसले लेने के संकेत दिए गए हैं। केंद्रीय बैंक ने बैठक में एक समिति का गठन करने का निर्णय लिया है। समिति के जरिए एटीएम शुल्क से जुड़े मामलों की समीक्षा की जाएगी। यह समिति अपनी पहली बैठक के दो माह के भीतर अपनी सिफारिशें आरबीआई को बताएगी। उम्मीद है कि जल्द ही एक और खुशखबरी सुनने को मिलेगी।

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image