Temperature: बढ़ रही हैं मौसम की चुनौतियां

0
21
Temperature

राज एक्सप्रेस, भोपाल। Temperature: महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में अभी ही सूखे जैसे हालात हो गए हैं, जबकि पिछले वर्ष इन राज्यों में अच्छी-खासी बरसात हुई थी। वर्ष 2018 में मानसून की स्थिति बेहतर रहने के बावजूद बड़े बांधों में पिछले वर्ष से 10-15 फीसदी कम पानी है। यह चिंतनीय है।

देश के एक बड़े हिस्से में भारी गर्मी पड़ रही है। कई शहरों का तापमान 46 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जा रहा है। बढ़ते तापमान का जनजीवन पर गहरा असर पड़ा है। कई जगहों पर तो स्कूल बंद कर दिए गए हैं। अब हर साल इस मौसम में यही अहसास होता है कि इस बार गर्मी पिछले साल से ज्यादा है। मतलब यह कि गर्मी साल दर साल बढ़ रही है। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार 1901 के बाद साल 2018 में सबसे ज्यादा गर्मी पड़ी थी, लेकिन अभी से यह यह अनुमान लगाया जा रहा है कि इस साल औसत तापमान में 0.5 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि हो सकती है। पिछले महीने मौसम की जानकारी देने वाली वेबसाइट एल डोरैडो ने दुनिया के सबसे गर्म 15 इलाकों की लिस्ट जारी की। ये सारी जगहें मध्य भारत और आसपास की हैं। लिस्ट में जो 15 नाम हैं उसमें से नौ महाराष्ट्र, तीन मध्य प्रदेश, दो उत्तर प्रदेश और एक तेलंगाना का है। अब हाल ही में खबर आई है कि अगले साल से भारत में लू का प्रकोप और तेज होगा तथा साल 2064 तक गर्मी का कहर बढ़ता जाएगा। यह रिपोर्ट पुणो से आई है। रिपोर्ट में पिछले कुछ वर्षो के मौसम को आधार बनाया गया है।

एक सामान्य राय है कि ग्लोबल वार्मिग के कारण ऐसा हो रहा है। लेकिन कई विशेषज्ञ मानते हैं कि शहरों में बढ़ते निर्माण कार्यो और उसके बदलते स्वरूप के चलते हवा की गति में कमी आई है। एक राय यह भी है कि तारकोल की सड़क और कंक्रीट की इमारत ऊष्मा को अपने अंदर सोखती है और उसे दोपहर और रात में छोड़ती है। बढ़ती गर्मी से सीधा जुड़ा हुआ है जल संकट। महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में अभी सूखे जैसे हालात हो गए हैं, जबकि पिछले वर्ष इन राज्यों में अच्छी-खासी बरसात हुई थी। 2018 में मानसून की स्थिति बेहतर रहने के बावजूद बड़े बांधों में पिछले वर्ष से 10-15 फीसदी कम पानी है। केंद्रीय जल आयोग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार देश के 91 जलाशयों में उनकी क्षमता का 25 फीसदी औसत पानी ही उपलब्ध है। दरअसल मार्च से मई तक होने वाली प्री मानसून वर्षा में औसत 21 प्रतिशत की कमी आई है।

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार उत्तर-पश्चिम भारत में प्री मानसून वर्षा में 37 फीसदी की कमी रही जबकि प्रायद्वीपीय भारत में 39 फीसदी की कमी। हालांकि फोनी तूफान की वजह से हुई वर्षा ने मध्य भारत, पूर्व और पूवरेत्तर भारत में इस कमी की भरपाई कर दी। लेकिन अल नीनो की वापसी के अंदेशे से इस बार मानसून के कमजोर होने की आशंका मंडरा रही है। मौसम का अनुमान करने वाली निजी संस्था स्काईमेट वेदर ने कहा कि अप्रैल में यह कमजोर होता नजर आया था, पर इसमें फिर मजबूती के लक्षण दिख रहे हैं। जो भी हो, प्रशासन को सतर्क हो जाना चाहिए। जून में खरीफ की बुवाई शुरू हो जाएगी। इसी तरह गर्मी से जानमाल की क्षति रोकने के लिए भी जरूरी उपाय करने होंगे।

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image