Kumbh 2019: विदेशियों के लिए कौतूहल का केंद्र बना अद्वितीय कुंभ स्नान पर्व

0
69
Kumbh 2019

राज एक्सप्रेस, प्रयागराज: प्रयागराज में कुंभ (Kumbh 2019) का आयोजन चल रहा है। 4 फरवरी को कुंभ का दूसरा शाही स्नान पड़ा, जिसमें मौनी और सोमवती दोनों अमावस्या एक साथ थी। गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती के पावन संगम में अद्भुत, अकल्पनीय और अनूठे कुम्भ में मौनी अमावस्या का हर लम्हा श्रद्धा और भक्ति की बयार से ओतप्रोत नजर आया। वहीं सुरक्षा के लिहाज से एक ही दिन में दो करोड़ से अधिक स्नानार्थियों की मेला क्षेत्र में मौजूदगी, खासकर विदेशी मीडिया और सैलानियों को अचरज में डालने के लिए पर्याप्त थी।

संगम की रेती में रविवार रात से ही आस्था का समंदर हिलोरें मारने लगा था जो सोमवार सुबह होते होते जनसैलाब में तब्दील हो चुका था। हर हर गंगे के उदघोष के साथ संगम में डुबकी लगाने का सिलसिला लगातार जारी रहा। इस दौरान सुरक्षा बल के जवान भीड़ को संभालने की मशक्कत करते रहे। भोर से शुरू हुए कुंभ के दूसरे शाही स्नान में अखाड़ों की दिव्यता और औलौकिकता ने हर किसी का मन मोह लिया।

विगत सप्ताह बने इंजीनियर व मैनेजमेंट ग्रेजुएट 10 हजार नागा साधुओं ने किया शाही स्नान:

इस दौरान विगत सप्ताह कई युवा नागा साधु भी बने। दीक्षा समारोह में हजारों युवाओं ने अपने बाल त्यागे और अपना खुद का पिंड दान किया। रातभर चली अग्नि पूजा के बाद ये सभी प्राचीन परंपरा के अनुसार नागा साधु बने। खास बात यह रही की इन सभी ने सोमवार को शाही स्नान किया। हैरानी की बात तो ये है कि इन लोगों में बड़ी संख्या में इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट के ग्रेजुएट भी शामिल हैं। नागा साधु बनने आए 27 वर्षीय रजत कुमार राय का कहना है कि, उन्होंने कच्छ से मरीन इंजीनियरिंग में डिप्लोमा हासिल किया है। इसके लिए उन्हें अच्छी खासी सैलरी मिलती लेकिन उन्होंने संसार का त्याग कर नागा साधु बनना बेहतर समझा।

इसके अलावा नागा साधु बने 29 वर्षीय शंभु गिरी यूक्रेन से मैनेजमेंट ग्रेजुएट हैं। 18 वर्षीय घनश्याम गिरी उज्जैन से 12वीं बोर्ड के टॉपर हैं। सोमवार को इन सभी ने मौनी अमावस्या के मौके पर शाही डुबकी लगाई। संतों, महामंडलेश्वरों के साथ ही नए बने नागा संन्यासियों में डुबकी लगाने को लेकर सबसे ज्यादा आतुरता रही। इस कड़े जीवन को जीने के लिए 10 हजार पुरुषों और महिलाओं ने दीक्षा ली है। एबीएपी के अंतर्गत ये लोग नागा साधु बने है।

साधुओं की एक झलक पाने के लिएश्रद्धालु देर रात कतारबद्ध:

रेती पर दौड़ते नागा साधुओं की एक झलक पाने के लिए श्रद्धालु देर रात कतारबद्ध तरीके से बैरिकेडिंग के दोनो तरफ जमे हुए थे। नागाओं ने संगम में डुबकी लगाने के बाद भस्म का लेप किया वहीं सजे धजे रथों में सवार विभिन्न अखाड़ों के मठाधीशों ने अपने अनुयायियों के साथ संगम में स्नान किया। त्रिशूल, तलवार और अन्य शस्त्रों से सुसज्जित नागाओं और बाबाओं की दिव्यता भोर की बेला में अद्धुत चमक बिखेर रही थी।

Kumbh 2019: विदेशियों के लिए कौतूहल का केंद्र बना अद्वितीय कुंभ स्नान पर्व

डेनमार्क से आए सैलानी रिचर्ड हैनरी ने कहा:

डेनमार्क से आए सैलानी रिचर्ड हैनरी ने कहा कि, कुंभ वाकई लाजवाब है। आस्था का कोई जवाब नहीं। नदियों के प्रति भारतीयों का सम्मान और श्रद्धा देखने के काबिल है। यह भारतीय संस्कृति की विविधता को दर्शाने के लिये काफी है। मैं इस बार अकेला आया हूं। उम्मीद करता हूं कि अगली बार मेले में परिवार भी साथ आ सके। चीन से पधारे दंपति हे कू जियान ने कहा कि नागा साधु वास्तव में शोध का विषय है। उनका मस्त मौला अंदाज हर एक से जुदा है।

कुंभ के मौके पर दूसरी बार भारत आने का मौका मिला है। नदी के तट पर होने वाला यह धार्मिक आयोजन काबिल-ए-तारीफ है वहीं सुरक्षा इंतजामों के लिये यहां की सरकार और सुरक्षा एजेंसियां बधाई के पात्र हैं। इतने विशाल आयोजन को मुकाम तक पहुंचाना कतई आसान नहीं है। भारतीयों की मेजबानी और हौसले का उनका परिवार तहे दिल से शुक्रिया अदा करना चाहता है।

श्रीलंका के अरविन्द डी सिल्वा ने कहा:

श्रीलंका के अरविन्द डी सिल्वा ने कहा कि ‘अनेकता में एकता’ का प्रतीक कुंभ की महिमा का वर्णन करना असंभव है। यह एक बेमिसाल आयोजन है जो भारतीय संस्कृति की विविधता को दर्शाता है। मेला क्षेत्र में सफाई और अन्य सुविधाएं बेमिसाल है। इसके लिये भारत सरकार बधाई की पात्र है। श्रीलंका और भारत पौराणिक रूप से भी जुड़े हैं और दोनो देशों के बीच सांस्कृतिक सछ्वाव दुनिया को एकजुट रखने में मदद करेगी। इस बीच दूसरे शाही स्नान पर्व की शुरूआत परम्परा के मुताबिक श्री पंचायती महानिर्वाणी अखाड़ा ने की। शिविर से तड़के 5.15 बजे शाही जुलूस के साथ निकले नागा साधु और संत निर्धारित समय से करीब आधा घंटा पहले यानी पौने छह बजे संगम तट पर पहुंचे। उसके साथ अटल अखाड़ा ने भी शाही स्नान किया।

शोभा यात्रा:

अखाड़ों के संगम तट पर पहुंचने से पहले सुरक्षा अधिकारियों ने रास्ते को बिल्कुल साफ सुथरा करा दिया था लेकिन श्रद्धालुओं और मीडिया कर्मियों की भीड़ के आगे सुरक्षा इंतजाम नाकाफी साबित हुये। शोभा यात्रा के बीच में फोटो जर्नलिस्ट अपने काम को अंजाम दे रहे थे जिसे साधु संत प्रोत्साहित भी करते दिखायी पड़े। कई साधुओं के हाथों में मोबाइल फोन थे जिससे वह सेल्फी लेते भी दिखायी पड़े वहीं कई साधु संतों ने विभिन्न मुद्राएं धारण कर फोटोग्राफरों का काम आसान कर दिया। इस बीच श्रद्धालुओं की भीड़ भी शोभा यात्रा के बीच में घुस गयी जिसने सुरक्षा इंतजामों की पोल खोल कर रख दी। इस दौरान सुरक्षा कर्मी सीटी बजा-बजा कर भीड़ को पीछे धकेलते रहे।

ड्रोन कैमरे और फूल बरसाते हेलीकाप्टर:

उधर, हवा में घूमते ड्रोन कैमरे और फूल बरसाते हेलीकाप्टर हर किसी के आकर्षण का केन्द्र बने। कुंभ की कवरेज करने आये कई विदेशी पत्रकार बात करते दिखाई पड़े कि इतने बड़े हुजूम की सुरक्षा वाकई चुनौती भरी थी जबकि देश के कोने कोने से आये श्रद्धालु सुरक्षाबलों के हौसलों और सरकार के इंतजामों की दाद देते हुये कह रहे थे कि मेले में आए भक्तों की सुरक्षा की जिम्मेदारी तो पतित पावनी गंगा मईया निभा रही है।

मौनी अमावस्या पर्व:

मेला क्षेत्र में रविवार तडके से ही वाहनो का प्रवेश निषेध कर दिया गया था। रोडवेज बसों और अन्य निजी वाहनो के लिये शहर के बाहरी छोरों पर अस्थायी पार्किंग की व्यवस्था की गयी थी जबकि वहां से सिविल लाइंस तक के लिये कुंभ शटल में मुफ्त यात्रा का इंतजाम किया गया था। सिविल लाइंस से संगम तक जाने के लिये केवल पैदल लोगों को इजाजत दी जा रही थी। प्रयागराज के मंडलायुक्त आशीष गोयल ने कहा, कुंभ के छह स्नान पर्व में सबसे अधिक मान्यता मौनी अमावस्या पर्व की है। इस नाते भीड़ का उमड़ना स्वाभाविक है। इसके लिये सभी जरूरी इंतजामों किये गये हैं।

यह भी पढ़ें: 71 साल बाद बना संयोग, 2 अमावस्या होगी एक ही दिन, गंगा स्नान व दान से मिलेगा पुण्य

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image