शनिश्चरी अमावस्या आज: यह सरल उपाय से शनिदेव होंगे प्रसन्न, दुष्प्रभाव होंगे दूर

0
34
Shani Shastri Amavasya

राज एक्‍सप्रेस। वैसे अमावस्या हर माह आती है, लेकिन आज 4 मई को शनिवार के दिन अमावस्या होने से यह शनिश्चरी अमावस्या (Shani Shastri Amavasya) विशेष फलदायी हो गई है, साथ ही अगर आप शनि देव को प्रसन्न करना चाहतेे हैं तो, आज का दिन सबसे बेस्‍‍‍ट है, इस दिन पूजा-पाठ करने से जितने दुष्प्रभाव होते हैं वे दूर हो जाते हैं। आइए जानते हैं आज के यह सरल उपाय….

  • हनुमान जी को चोला चढ़ाएं।
  • हनुमान चालीसा का अधिक से अधिक दान करें।
  • काले कपड़े में सवा किलोग्राम काला तिल भर कर दान करें।
  • पीपल के वृक्ष पर 7 प्रकार के अनाज चढ़ाकर बांट दें।
  • आज के दिन मांस और मदिरा का प्रयोग न करें।
  • अमावस्या के दिन प्रात: या शाम को सूर्यास्त के बाद स्नान कर ’हरड़’ का तेल शरीर पर लगाएं।
  • इस दिन पिता का अपमान न करें, बहन और भांजी को दान दें।
इस उपाय को करने से बदल सकती है आपकी किस्मत

आज का यह दिन कुंडली में शनि से पीड़ित चल रहे लोगों के लिए काफी उपयुक्त होता है। मान्यता है कि, इस दिन शनि देव से कल्याण के लिए स्त्रोत, मंत्र, दान, जप व तप करना चाहिए। इस दिन लोहे की कटोरी में सरसों का तेल भरकर उसमें अपना चेहरा देखकर उसे दान करें। यह उपाय संध्या के समय करना उत्तम होगा या फिर शनि महाराज को तेल से स्नान भी करवा सकते हैं। इससे जातक को फायदा मिलेगा और उनकी किस्मत बदल सकती है। साथ ही शनि अमावस्या के दिन यह उपाय करने से भी शनिदेव की कृपा प्राप्त होती है, आज आप जल में गुड़ या शक्कर डालकर पीपल पर जल चढ़ाएं और सरसों के तेल का दीपक जलाएं।

क्‍या हैं शनिश्चरी अमावस्या का महत्व?

शनिवार और अमावस्या तिथि का योग विशेष कृपादायी होता है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करके सूर्य को अर्घ्य देकर गरीबों को भोजन, फल, वस्त्र, चप्पल आदि का दान दिया जाता है। यदि आपके आस-पास पवित्र नदी न हो तो घर में ही पानी में गंगाजल या नर्मदा का जल डालकर स्नान कर लें। इस दिन स्नान भी सूर्योदय पूर्व करना चाहिए। इसके बाद भगवान विष्णु और शिव की पूजा करें।

यह भी पढ़ें- Varuthini Ekadashi 2019: वरुथनी एकादशी, जानें इस दिन चावल और जौ का महत्त्व क्या है

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image