उदयपुर: जगन्नाथ रथयात्रा में शामिल होंगे 2 रजत रथ

0
28
Jagannath Rath Yatra Udaipur

राज एक्सप्रेस, उदयपुर। राजस्थान में उदयपुर के ऐतिहासिक जगन्नाथ मंदिर से आगामी चार जुलाई को पारंपरिक रूप से निकलने वाली भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा (Jagannath Rath Yatra Udaipur) में इस बार दो रजत रथ होंगे। रथयात्र में शहर एवं ग्रामीण क्षेत्रों से विभिन्न समाज संगठनों के 300 से अधिक समाजों की भागीदारी रहती है।

रथयात्रा शाही जगदीश मंदिर से शाही लवाजमें के साथ हाथी घोड़े, बैड़, भजन मण्डलीया अन्य समाजों की झांकिया एवं रथ एवं रामरेवाडीयों के साथ रवाना होकर घण्टाघर, बड़ा बाजार, भड़भुजा घाटी, संतोषी माता मन्दिर, मण्डी, अस्थल चैराहा, आर.एम.वी. रोड़, कालाजी, गोराजी, रंग निवास से भट्टियाणी चैहट्टा होकर पुन: जगदीश मन्दिर पर पहुंचेगी। उड़ीसा में पूरी की तर्ज पर निकलने वाली भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा में मुख्य रथ के अलावा, इस बार स्वर्णकार समाज का रजत रथ यात्रा में शामिल होगा। इस हेतु मेड क्षत्रिय स्वर्णकार समाज की ओर से रजत रथ को बनवाने का कार्य किया जा रहा है। स्वर्णकार समाज के रथ को भगवान जगन्नाथ राय के मुख्य रथ के साथ झांकी के रूप में सम्मिलित किया जाएगा।

21 किलो चान्दी की परत चढ़ाई जा रही है:

स्वर्णकार समाज द्वारा बनाए जा रहे इस रजत रथ का निर्माण सुमेरपुर के कारीगर पिछले डेढ़ वर्ष से कर रहे हैं। यही नहीं सागवान की लकड़ी से बनाये जा रहे इस रथ पर 21 किलो चान्दी की परत चढ़ाई जा रही है। दो फ़ीट ऊँचे अश्वो वाले इस रथ की लंबाई 11 फीट है जबकि इसकी ऊंचाई 11 और चौड़ाई पांच फीट रहेगी। इसके अलावा इस रथ में तीन फीट का गुम्बद, एक फ़ीट का कलश और तीन फीट चौडा सिंहासन बनाया गया है। इस रजत रथ का कुल वजन 300 किलोग्राम है। जगन्नाथ रथयात्रा समिति के तत्वावधान में प्रतिवर्ष आषाढ़ शुक्ला द्वितीया के अवसर पर आयोजित होने वाली है।

यह भी पढ़ें : पुरी की पवित्र जगन्नाथ रथ यात्रा में शामिल होने से पूर्ण होते है मनोरथ

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image