चीन की साम्यवादी पार्टी की नीति पर, भारत में शांति और स्थिरता बढ़ेगी

0
30

बीजिंग। चीन में राष्ट्रपति शी जिनपिंग के दूसरे कार्यकाल की शुरुआत पर उन्होंने चीनी सेना से युद्ध के लिए तैयार रहने की बात कही। इससे साफ जाहिर होता है कि चीन अब खुद को सैन्य स्तर पर विकसित करने में लगा हुआ है। शुक्रवार को भारत ने चीनी संबंधों पर कहा कि उसे उम्मीद है कि जिनपिंग के नए कार्यकाल में भी भारत और चीन के बीच शांति और स्थिरता बनी रहेगी। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि शी जिनपिंग के दूसरे कार्यकाल की शुरुआत पर प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें शुभकामना भेजी है। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि भारत और चीन के बीच द्विपक्षीय संबंधों में शांति और स्थिरता बढ़ेगी।
इससे पहले चीन ने भारत समेत कई देशों को अपनी महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट ओबीओआर, जो सीपीईसी से गुजरता है, में शामिल होने की बात कही थी। कुमार ने कहा कि ओबीओआर में हमारा रुख साफ है और यह सभी को पता है। उन्होंने कहा कि भारत ऐसी कनेक्टिविटी का सपोर्ट करता है, जो खुली हो और उसमें बराबर का सहयोग हो। गौरतलब है कि चूंकि सीपीईसी भारतीय सीमा से गुजरती है इसलिए भारत लंबे समय से इसका विरोध कर रहा है। मई में चीन की ओर से आयोजित एक हाई प्रोफाइल बेल्ट और रोड फोर्म को भारत ने बॉयकट किया था। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने गुरुवार को बीजिंग में कहा कि हम अन्य देशों के साथ भारत का भी बेल्ड और रोड पहल में स्वागत करते हैं।
विदेश मंत्रालय ने ‎जापान के विदेश मंत्री के उस बयान पर भी प्रतिक्रिया दी जिसमें कहा गया था कि भारत, अमरीका, जापान और ऑस्ट्रेलिया मिलकर काम करेंगे। इसे चीन के ओबीओआर का जवाब माना जा रहा है। प्रवक्ता ने कहा, ‘हम समान विचारधारा वाले देशों के साथ मिलकर उन मुद्दों पर काम करने के लिए तैयार हैं, जिनसे हमारे हित आगे बढ़ें, हमारे विचार आगे बढ़ें। हम अड़े नहीं है। हम इस तरह की कई पहल से जुड़े हुए हैं।

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here