सऊदी अरब के पवित्र मक्का में छत निर्माण का फैसला सरकार ने किया

1
39

सऊदी अरब। इस्लाम धर्म के सबसे पवित्र स्थल मक्का समेत कई ऐतिहासिक और सांस्कतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों के ऐतिहासिक स्वरूप को बदला जा रहा है। ताकि आधुनिकता की जगह बनाई जा सके। इसी क्रम में अब सऊदी अरब सरकार मक्का स्थित पवित्र काबा में एक हटाई जा सकने वाली छत का निर्माण करने जा रही है। इसे लेकर सऊदी अरब की सरकार पर लोग सवाल खड़े कर रहे हैं। लोगों को चिंता सता रही है कि इस तरह के फैसले से इस्लाम धर्म के सबसे पवित्र स्थल का ऐतिहासिक स्वरूप नष्ट हो जाएगा। सऊदी सरकार द्वारा पवित्र मस्जिद मक्का की छत का निर्माण किए जाने की लोगों ने आलोचना की है। जिसके कारण सऊदी सरकार सवालों के घेरे में आ गई है। लोगों ने सरकार के इस कदम की यह कहते हुए आलोचना की है कि इस तरह के आधुनिकिकरण से इस्लाम के सबसे पवित्र स्थल का ऐताहिसिक चरित्र नष्ट हो जाएगा। लेकिन आलोचनाओं के बाद भी सरकार इस योजना को आगे बढ़ा रही है। हाल ही में इससे जुड़ा एक वीडियो भी सामने आया है।
हालांकि मस्जिद की छत बनाए जाने को लेकर सरकार और मस्जिद प्रशासन की ओर से कोई अधिकारिक बयान नहीं आया है। अंग्रेजी पत्रिका द इंडिपेंटेंड में छपी खबर के अनुसार इस्लामिक विरासत अनुसंधान फाउंडेशन की ओर उपलब्ध कराए गए वीडियो में देखा जा सकता है कि मस्जिद में काम शुरू कर दिया गया है। वीडियो में देखा जा सकता है कि फिलहाल अभी मस्जिद में एक मॉडल प्रदर्शन किया गया है जिसके जरिए यह बताया जा रहा है कि नई छत किस तरह काम करेगी। जानकारी के अनुसार आपको बता दें कि छत निर्माण के पीछे सरकार का मकसद काबा आने वाले तीर्थयात्रियों को झुलसा देने वाली सूरज की गर्मी से सुरक्षित रखना है।
मस्जिद के सुरक्षा बल के कमांडर प्रमुख जनरल मोहम्मद अल-अहमदी ने बताया है कि छत का निर्माण बहुत जल्द शुरू कर दिया जाएगा और इसे 2019 तक इसे पूरा कर लिया जाएगा। सरकार द्वारा छत निर्माण की आलोचना करते हुए इस्लामिक विरासत अनुसंधान फाउंडेशन के निदेशक डॉ इरफान अल अल्वी ने कहा है कि सदियों से मुस्लिम हज और उमरा के लिए यहां आते रहे हैं। लेकिन किसी ने कभी इसे लेकर शिकायत नहीं की। मुझे यह बिल्कुल समझ नहीं आ रहा है कि इस्लाम के इस पवित्र स्थल और हमारी सभी धरोहरों को इस तरह क्यों नष्ट किया जा रहा है।

No ratings yet.

Please rate this

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here