देश के पहले लोकपाल बनेंगे सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज पिनाकी चंद्र घोष

0
12
Pinaki Chandra Ghose

राज एक्सप्रेस| सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश पिनाकी चंद्र घोष (Pinaki Chandra Ghose) देश के पहले लोकपाल चुने गए है| चंद्र घोष वही न्यायाधीश है जिन्होंने शशिकला और अन्य को भ्रष्टाचार के मामले में सजा सुनाई थी| शुक्रवार को चयन समिति ने घोष के नाम पर मोहर लगाई| इस चयन समिति में चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया तरुण गोगोई, प्रधानमंत्री मोदी, लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन और लॉ मेकर्स शामिल थे|

किरण बेदी ने दी बधाई   

पुडुचेरी की गवर्नर किरण बेदी ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर लिखा, “लोकपाल की घोषणा के बारे में जानकार बहुत खुशी हुई| यह देश की सभी भ्रष्टाचार विरोधी प्रणालियों को मज़बूत करेगा और सभी स्तरों पर सतर्कता के काम को बढ़ावा देगा| इस उद्देश्य का नेतृत्व करने और इस पर डटे रहने के लिए मैं अन्ना हज़ारेजी का धन्यवाद करना चाहूँगी| जय हिन्द”

नयनाधीश पिनाकी चंद्र घोष इस समय राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्य है| रिटायर न्यान्याधीश भी है| इसके आलावा वो कलकत्ता हाईकोर्ट में जस्टिस भी रह चुके है| इससे पहले घोष आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के मुख्य जस्टिस भी थे|

घोष ने कलकत्ता के सेंट जेवियर्स कॉलेज से पढ़ाई की शुरुआत की| यूनिवर्सिटी ऑफ कलकत्ता से कॉमर्स में स्नातक किया| इसके बाद LLB की| घोष का जन्म 28 मई, 1952 को कलकत्ता| उनके पिता शंभू चंद्र घोष भी पूर्व मुख्य न्यायाधीश थे| कलकत्ता और आंध्रप्रदेश के बाद 8 मार्च 2013 में सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश बने| 27 मई 2017 को घोष रिटायर हुए|

लोकपाल की ताकत

लोकपाल पद संभालने के बाद घोष देश के प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्रियों, सांसदों, सरकारी कर्मचारियों व सरकार के अंतरगत आने वाले संस्‍थानों के कर्मचारियों के खिलाफ शिकायत पर जांच करने का आदेश दे सकेंगे| घोष भ्रष्टाचार मामले की कार्रवाई करने के लिए अधिनियम के तहत CBI को भी जांच करने का आदेश दे सकते है|

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image