अब जल्द ही GST के चलते बढ़ रही महंगाई से मिलने वाली है कुछ राहत

0
36

नई दिल्ली। अब 10 नवंबर के बाद से GST के चलते बढ़ रही महंगाई से कुछ रहत मिलने की उम्मीद नजर आ रही है। क्योकि 10 नवंबर को गुवाहाटी में GST परिषद की बैठक होने वाली है। इस बैठक में मंत्रियों के समूह की सिफारिशों पर अंतिम फैसला लिया जाएगा।
कई बड़े बदलाव:
हालांकि केंद्र सरकार ने GST लागू करने के बाद से अभी तक कई बड़े बदलाव कर चुकी है। हो सकता है की इस बदलाब से कारोबारियों पर से टेक्स का भार कुछ काम हो जाये इस बदलाब के लिए असम के वित्त मंत्री हेमंत विश्वशर्मा की अध्यक्षता में बने मंत्री समूह ने कुछ सुझाव दिए हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इन मंत्रियों के समूह में बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी, जम्मू-कश्मीर के वित्त मंत्री हसीब डराबु, पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल और छत्तीसगढ़ के वाणिज्यिक कर मंत्री अमर अग्रवाल शामिल हैं।
मंत्री समूह के सुझाव:
# मंत्री समूह ने 1 फीसदी कर रखने का सुझावा दिया।
# रेस्तरां पर लगने वाले 18 फीसदी जीएसटी को घटाकर 12 फीसदी कर दिया जाए।
# मैन्युफैक्चर्स को सकल बिक्री पर 2 की जगह 1 प्रतिशत, रेस्टोरेंट के लिए 5 की जगह 1 प्रतिशत और ट्रेडर्स के लिए 1 की जगह 0.5 प्रतिशत कर भुगतान का सुझाव दिया गया है।
# मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर को कंपोजिशन स्कीम के तहत लगने वाले टैक्स के मामले में राहत देने का सुझाव।
# 28 फीसदी के स्तर पर कुछ उत्पादों का रेट कम किये जाने का सुझाव।
# कंपोजिशन स्कीम के तहत ना आने वाले एसी और गैर एसी रेस्तरां के बीच टैक्स के फर्क को खत्म कर 12 फीसदी GST रखा जाए।
# वो व्यापारी, जो कुल टर्नओवर पर कर का भुगतान करते हैं, उनके लिए कर की दर 0.5 प्रतिशत पर प्रस्तावित करने का सुझाव।
# जो व्यापारी कर मुक्त वस्तुओं की बिक्री से मिली रकम को कारोबार से अलग करना चाहते हैं, वो 1 फीसदी GST दें।
# जो कुल कारोबार के आधार पर टैक्स देते हैं, उनके लिए GST 0.5 फीसदी रखा जाए।
क्या-क्या बदलाब होंगे:
# रेस्तरां पर लगने वाले 18 फीसदी टेक्स को 12 फीसदी से बदला जा सकता है।
# कंपोजिशन स्कीम की सीमा 1 करोड़ से बढ़ा कर डेढ़ करोड़ की जा सकती है।
# कंपोजिशन स्कीम की सीमा बढ़ने और होटल व मैन्युफैक्चरर्स के लिए टैक्स दर घटने से आम आदमी को भी फायदा मिलेगा।
# इस बैठक में रियल इस्टेट को GST के दायरे में लाया जा सकता है। इससे एक ही टेक्स देना होगा और आम आदमी के लिए घर खरीदना सस्ता हो सकता है।
# 28 फीसदी की रेंज में आने वाले आम लोगों के काम की चीजें सस्ती हो सकती है।
# एसी और गैर एसी रेस्तरां के बीच टैक्स का फर्क ख़त्म हो जाएगा।

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here