रिलायंस कंपनी बना रही है हेमलीज को खरीद कर खिलौने बनाने का विचार

0
33
Reliance Hamleys Deal

राज एक्सप्रेस। मुकेश अम्बानी के स्वामित्व वाली कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) अब खिलौने बनाने का विचार बना रही है। जी हाँ, रिलायंस इंडस्ट्रीज अब ब्रिटेन की जानी मानी खिलौने बनाने वाली कंपनी हेमलीज को खरीदने (Reliance Hamleys Deal) पर विचार कर रही है। जिसके तहत रिलायंस कंपनी की हेमलीज कंपनी से बातचीत भी चल रही है। यदि यह डील होती है तो, रिलायंस इंडस्ट्रीज खिलौने बनाने के व्यपार में भी अपने कदम बढ़ा लेगी। रिलायंस इंडस्ट्रीज के हेमलीज को खरीदने की खबर की जानकारी सबसे पहले Moneycontrol.com वेबसाइट ने दी थी।

क्या है हेमलीज:

हम आपकी जानकारी के लिए बता दे, हेमलीज एक बहुत बड़ी खलौने बनाने की कंपनी है इसका मालिकाना हक़ रखने वाली कंपनी चीन की है। हेमलीज के पूरी दुनियाभर में 130 स्टोर हैं। जिनमें से 87 स्टोर्स भारत में हैं। खिलौने के एक पुराने स्टोर से हेमलीज ब्रांड लंदन में शुरू हुआ था। 2015 में चीन के रिटेल ग्रुप सी बैनर इंटरनेशनल होल्डिंग्स ने लुडेंडो एंटरप्राइजेज यूके लिमिटेड से हेमलीज को खरीदा था। इतना ही नहीं इसे भारत में सबसे बड़ी टॉय रिटेलर कंपनी के लिए जाना जाता है। अब अगर रिलायंस इस ब्रांड को खरीद लेती है तो, स्टोर्स की संख्या और अधिक बढ़ जाएगी जिससे, टॉय रिटेल मार्केट में उसकी जड़े और भी मजबूत हो जाएंगी।

हेमलीज का मुनाफा और घाटा:
  • एक साल पहले कंपनी ने 17 लाख पाउंड का मुनाफा कमाया था।
  • दिसंबर 2018 के अंत में हेमलीज को 92 लाख पाउंड का घाटा हुआ था।
जानकारी के अनुसार:

प्राप्त जानकारी के अनुसार, ‘रिलायंस की हेमलीज के मालिकों से बातचीत आखिरी दौर में चल रही है।’ इसका मतलब ये हुआ कि, यह डील जल्द ही फाइनल हो सकती है। इसके अलावा रिलायंस रिटेल की रिलायंस ब्रांड्स के पास हेमलीज की भारत की मास्टर फ्रेंचाइजी है।

मुकेश अंबानी का ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस लॉन्च करने पर भी विचार:

मुकेश अंबानी की कंपनी ने इस साल ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस लॉन्च करने का भी प्लान बनाया है। एक्सपर्ट्स ने बताया कि वह इससे फूड से लेकर फैशन और खिलौनों तक की बिक्री करेगी।

प्रवक्ताओं का कहना:

ईमेल द्वारा पूछे गए सवाल पर रिलायंस के प्रवक्ता ने बताया कि, ‘पॉलिसी के तहत, हम मीडिया की अटकलों और अफवाहों पर प्रतिक्रिया नहीं देते। हमारी कंपनी समय-समय पर बिजनेस बढ़ाने के कई विकल्पों पर गौर करती है। इन मामलों में सेबी के रूल्स के तहत जो भी जरूरी होगा, हम वो जानकारी देंगे।’

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image