चेन्नई। सुपर रेडर प्रदीप नरवाल के कमाल के प्रदर्शन से पटना पाइरेट्स ने पहली बार फाइनल में खेल रहे गुजरात फाच्यरूनजायंट्स को शनिवार को 55 -38 के बड़े अंतर से पीट कर VIVO Pro Kabaddi League के पांचवें सत्र में खिताब की हैट्रिक पूरी कर ली। प्रदीप ने फाइनल में 24 रेड में 19 अंक बटोर कर पटना को फिर चैंपियन बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वरना एक समय पटना की टीम पहले हाफ में 6-14 से पिछड़ी हुई थी और पांचवें मिनट में आल आउट भी हो गयी थी, लेकिन यह प्रदीप का कमाल था जिन्होंने अकेले अपने दम पर पटना को चैंपियन बना दिया।

पटना को खिताबी जीत से तीन करोड़ रुपये की पुरस्कार राशि मिली जबकि गुजरात के हिस्से में 1.8 करोड़ रुपए आए। पहली बार फाइनल खेल रही नई टीम गुजरात का सामना दो बार के चैंपियन पटना से था। गुजरात ने लीग चरण में पटना को दो बार हराया था। पटना ने प्ले ऑफ में तीन मैच जीत कर फाइनल में जगह बनाई थी जबकि गुजरात के टीम पहला क्वालीफायर जीत कर कर फाइनल में पहुंची थी। गुजरात ने फाइनल में शानदार शुरुआत की और राकेश नरवाल ने पहली रेड से तीन अंक बटोरे।

पांचवें मिनट तक पहुंचते पहुंचते पटना की टीम आल आउट हो चुकी थी। तब ऐसा लग रहा था कि आज गुजरात का दिन है लेकिन इसके बाद जो कुछ हुआ उससे नरवाल भारतीय कबड्डी के सबसे बड़े हीरो बन गए। VIVO Pro Kabaddi League के पांचवें सत्र में पटना ने 6-14 से पिछड़ने के बाद शानदार वापसी करते हुए पहले बराबरी की और फिर आधे समय तक 21-18 की बढ़त बना ली। दूसरे हाफ में मुक़ाबला बराबरी का चलता रहा लेकिन पटना ने गुजरात को आल आउट कर 27-21 की बढ़त बनाने के बाद पीछे मुड़ कर नहीं देखा। नरवाल ने मनमाने अंदाज में रेड से अंक बटोरे और टीम की बढ़त को मजबूत करते चले गए। गत चैंपियन ने अपनी बढ़त को 45 – 34 पहुंचाने के बाद मैच 55-38 पर समाप्त कर दिया। 21 साल के नरवाल को टूर्नामेंट के सबसे बहुमूल्य खिलाड़ी का पुरस्कार मिला। पटना के लिए नरवाल के अलावा मोनू गोयत ने नौ और विजय ने सात अंक बटोरे। गुजरात के लिए सचिन ने सर्वाधिक 11 अंक जुटाए।

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here