इंदौर, भोपाल में भाजपा खेलेगी महिला उम्मीदवारों के कार्ड

0
27
Indore-Bhopal BJP Women Candidates

राज एक्सप्रेस, भोपाल। मध्य प्रदेश की सबसे प्रतिष्ठापूर्ण संसदीय क्षेत्र भोपाल और इंदौर के लिए भाजपा उम्मीदवारों के नामों का ऐलान अगले दो दिनों में हो जाएगा। मिले संकेतों के मुताबिक प्रदेश के इन दोनों ही क्षेत्रों में भाजपा महिला कार्ड खेल (Indore-Bhopal BJP Women Candidates) सकती है। भोपाल से जहां पूर्व मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती को मौका मिल सकता है। वहीं इंदौर से भाजपा श्रीमती मालिनी गौड़ पर दांव लगा सकती है।

औपचारिक घोषणा का इंतजार :

सूत्रों के मुताबिक भाजपा के राष्ट्रीय नेतृत्व ने, लगभग इन दोनों ही नामों को अंतिम रूप दे दिया है और अब नामों की औपचारिक घोषणा का इंतजार ही बाकी है। हालांकि मप्र का मौजूदा भाजपा संगठन अब तक भोपाल से उमा भारती के नाम पर सहमत नहीं है। लेकिन भाजपा संगठन का यह रूख विरोध या नाराजगी के स्तर तक नहीं है। ऐसे में यह माना जा रहा है कि यदि भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व उमा भारती के नाम को हरी झंडी देता है तो फिर इस नाम के साथ खड़े रहने के अलावा संगठन के पास कोई विकल्प नहीं है।

मध्य प्रदेश के माहौल में बदलाव आया है:

दरअसल पूर्व में ही मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने वर्ष 2019 का चुनाव लड़ने से साफ इंकार कर दिया था। उन्होंने कई बार सार्वजनिक रूप से अपने उद्गार व्यक्त किए थे। कमजोर स्वास्थ्य को उनके चुनाव नहीं लड़ने की बड़ी वजह माना जा रहा था। लेकिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारियों के साथ दिल्ली में उनकी उच्च स्तरीय चर्चा हो चुकी है। जिसमें भी उन्होंने इस बार चुनाव नहीं लड़ने की इच्छा जाहिर की थी। लेकिन जिस तरह मध्य प्रदेश के माहौल में बदलाव आया है, उसमें उनके लिए भोपाल से चुनाव लड़ना भाजपा संगठन के लिए जरूरी लग रहा है।

बताया जा रहा है कि, संघ के साथ बैठक के दौरान सुश्री भारती ने प्रदेश संगठन द्वारा उनके नाम को लेकर तटस्थ रूख अपनाए जाने का मुद्दा प्रमुखता से उठाया था। प्रदेश संगठन से जुड़े कुछ कद्दावर नेता उनके नाम को लेकर उत्साहित नहीं हैं। यह पीड़ा उन्होंने उजागर भी की। बताया जा रहा है कि, संघ ने इस मुद्दे पर प्रदेश संगठन से जुड़े बड़े पदाधिकारियों से चर्चा की है।

भोपाल से कांग्रेस ने पखवाड़ा भर पहले ही पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह के नाम का ऐलान कर दिया है। यहां दिग्विजय सिंह का चुनाव प्रचार भी शुरू हो गया है, उनका चुनाव कार्यालय भी खुल गया है। वहीं दूसरी तरफ भाजपा ने अब तक इस सीट को होल्ड कर रखा है, जिससे यह संदेश जा रहा है कि, दिग्विजय सिंह जैसे हैविवेट उम्मीदवार के सामने भाजपा को उम्मीदवार चयन में ही पसीना आ रहा है तो फिर चुनाव में भी लोहे के चने चबाने पड़ सकते हैं। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लोकसभा चुनाव लड़ने को लेकर अनिच्छा जाहिर की है और वे मध्य प्रदेश की राजनीति में ही बने रहना चाहते हैं।

संसदीय क्षेत्र इंदौर:

इधर दूसरी तरफ जनसंख्या के लिहाज से प्रदेश के सबसे बड़े संसदीय क्षेत्र इंदौर को लेकर भी भाजपा के सामने यही स्थिति बनी हुई है। यहां इतना तय हो गया है कि मौजूदा सांसद सुमित्रा महाजन को टिकट नहीं मिल रहा है। अब उनको सम्मान देते हुए भाजपा संगठन ने उनसे ही नाम सुझाने का आग्रह किया है। लेकिन इंदौर को लेकर जो फीडबैक है, उस हिसाब से यहां श्रीमती मालिनी गौड़ को मौका मिल सकता है। श्रीमती मालिनी गौड़ इंदौर चार विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करती हैं। यहां के एक और कद्दावर नेता कैलाश विजयवर्गीय पश्चिम बंगाल भाजपा के प्रभारी हैं। मौजूदा लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल भाजपा के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। यहां भाजपा ने इस बार 20 से अधिक सीटें जीतने का लक्ष्य तय किया है।

ऐसे में संगठन कैलाश विजयवर्गीय को प्रभारी के दायित्व से मुक्त कर इंदौर संसदीय क्षेत्र में नहीं झोंक सकती है। ऐसे में विजयवर्गीय का दावा कमजोर माना जा रहा है। मौजूदा स्थिति में यहां से मालिनी गौड़ की उम्मीदवारी को सबसे सुरक्षित माना जा रहा है। बताया जा रहा है कि अगले दो दिन में भाजपा प्रदेश के इन दोनों ही बड़े संसदीय क्षेत्र के लिये नामों का ऐलान कर सकती है। यदि राष्ट्रीय नेतृत्व पर प्रदेश संगठन का दबाव काम कर गया तो फिर चौंकाने वाले नाम भी सामने आ सकते हैं।

यह भी पढ़ें : सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को घेरने उमा भारती पर दांव!

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image