भारत की चेतावनी, आतंकवाद को नहीं रोका तो पानी के लिए तरसेगा पाकिस्तान

0
23
Nitin Gadkari

राज एक्सप्रेस| भारतीय जनता पार्टी के केंद्र मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने पंजाब में प्रचार करते वक्त पाकिस्तान पर जमकर निशाना साधते हुए कहा, अगर वो अपनी जमीन से आतंकवाद का नामोनिशान नहीं मिटाता तो मजबूरन हमे पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए सारी नदियों का पानी बंद करना पड़ेगा|

उन्होंने आगे कहा, भारत की तीन नदियों का पानी पाकिस्तान में जाता है| हम उसे रोकना नहीं चाहते| दोनों देशो के बीच जल संधि का आधार दोस्ती और शांतिपूर्ण माहौल है जो, अब पूरी तरह गायब सा हो गया है| पाकिस्तान इस समझौते पर खरा नहीं उतरा, इसलिए हम भी इस संधि को मानाने के लिए बाध्य नहीं हैं|

केंद्र मंत्री नितिन गडकरी का कहना: 

गडकरी ने कहा, पाकिस्तान हर वक्त आतंकवाद का समर्थन करता है| अगर वो अपनी हरकतों से बाज नहीं आता और आतंकवाद को नहीं रोकता, तो हमारे पास नदियों का पानी रोकने के आलावा कोई और चारा नहीं बचेगा| इस संबंध में भारत ने आंतरिक रूप से अध्ययन शुरू कर दिया है, जिसके बाद यह पानी राजस्थान, पंजाब और हरयाणा को दिया जायेगा|

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद से भारत ने सबसे पहले पाक से MFN का दर्जा वापस ले लिया था| साथ ही पाक से आने वाली वसुतो पर 200 फीसदी टैक्स बड़ा दिया था| इसके बाद सिंधु जल समझौते के तहत तीनो नदियों रावी, सतलज और व्यास के पानी को रोकने पर फैसला किया जा सकता है|

क्या है सिंधु जल संधि

19 सितंबर 1960 को भारत और पाक के बीच जल के सवाल पर एक समझौता हो गया| इस समझौते को सिंधु जल संधि नाम दिया गया| इस समझौते पर भारत के प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू व पाकिस्तानी राष्ट्रपति अयूब खान ने हस्ताक्षर किए| 12 जनवरी 1961 को इस संधि की शर्ते लागू कर दी गईं, लेकिन भारत को केवल इस क्षेत्र में बहने वाले पानी का कुल 20 फीसद ही प्राप्त हुआ जो, इसकी सिंचाई योग्य 26 एकड़ मिलियन भूमि के लिए पर्याप्त नहीं था, जबकि पाक के हिस्से में आवश्यकता से अधिक 80 फीसद पानी आ गया|

यह भी पढ़ें : रमजान में सूफी दरगाह के बाहर धमाका, 4 सुरक्षाबलों समेत 8 की मौत, 24 जख्मी

 

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image