Cadbury मिल्क चॉकलेट में मिले कीड़े

0
38

मिल्क चॉकलेट बनाने वाली लोकप्रिय कंपनी Cadbury इंडिया की पेरैंट्स कंपनी मॉन्डेल्ज इंडिया फूड्स प्राइवेट लिमिटेड पर कोर्ट ने जुर्माना लगाया है।
यह है मामला
गुंटूर जिले के ब्रॉडिपेट में रहने वाली डारला अनुपमा ने पिछले साल 17 जुलाई को स्थानीय दुकान से कैडबरी मिल्क के दो चॉकलेट (रोस्ट अलमंड) खरीदे थे लेकिन जब उसके घर के लोगों ने चॉकलेट खाया तो उन्हें उसका स्वाद बदला-बदला सा नजर आया। जब दूसरे चॉकलेट का रैपर हटाया तो अनुपमा यह देखकर हैरान रह गई कि उसके अंदर फफूंदी टाइप का कुछ जमा हुआ है और वो कड़ा हो चुका है। इसके बाद अनुपमा ने मॉन्डेल्ज कंपनी को ई-मेल के जरिए इसकी शिकायत की और उन्हें इससे जुड़ी तस्वीरें भी भेजीं। ई-मेल मिलते ही कम्पनी के प्रतिनिधि ने अनुपमा से संपर्क किया और मामले को अधिक नहीं उछालने का अनुरोध किया। प्रतिनिधि ने उस चॉकलेट का सैंपल भी अनुपमा से ले लिया।
कंपनी ने नहीं की कोई कार्रवाई
कंपनी की इस मामले में कोई प्रतिक्रिया न देने पर अनुपमा ने 6 अगस्त, 2016 को उपभोक्ता फोरम का दरवाजा खटखटाया।
रिटेलर का बयान
मामले की सुनवाई करते हुए उपभोक्ता फोरम ने चॉकलेट बनाने वाली कंपनी और रिटेलर को बुलाया। रिटेलर ने यह तर्क दिया कि प्रोडक्ट की क्वालिटी मैंटेन रखने में उसकी कोई भूमिका नहीं है। कंपनी ने जिस तरह पैक्ड सामान दिया उसी तरह पैक्ड उसने ग्राहक को दिया। फोरम ने रिटेलर की बातों पर सहमति जताई।
कंपनी का बयान
दूसरी तरफ कंपनी के वकील ने आवेदन खारिज करने की मांग की क्योंकि आवेदक ने सैंपल जमा नहीं कराया था लेकिन वो इस बात से इनकार नहीं कर सका कि आवेदक ने लिखित रूप में शिकायत दर्ज कराई है। कंपनी के जिस प्रतिनिधि ने पीड़ित उपभोक्ता से सैंपल लिए थे वह बार-बार समन जारी करने के बाद भी फोरम के सामने पेश नहीं हो सका।
कोर्ट  का फैसला
उपभोक्ता अदालत ने बैक्टीरिया संक्रमित चॉकलेट सप्लाई करने, सेवा में लापरवाही बरतने और खामी उजागर होने पर कंपनी पर कुल 55,090 रुपए का जुर्माना लगाया है। सर्विस में खामी पाने के आरोप में 50,000 रुपये, अदालती खर्च के रूप में 5000 रुपये और दो चॉकलेट की कीमत 90 रुपये रुपये जमा करने का आदेश दिया है।

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here