नोटबंदी के समय RBI के नियमों का उल्लंघन करने वाले 460 बैंक अफसरों पर की गई कार्रवाई

0
32

नई दिल्ली। नोटबंदी के समय सारे काम छोड़ के बैंक की लाइन में लगी आम जनता को शक था की बैंक के कुछ कर्मचारी काली करतूत में जुटे हुए थे और कालेधन को रखने वाले अमीरों का सपोर्ट कर रहे हैं। लोगों के इस बयान के बार सरकार ने आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि करते हुए 460 बैंक अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। दिल्ली में गुरुवार को विजिलेंस कमिश्नर टीएम भसीन ने ये जानकारी दी।
सतर्कता आयुक्त टीएम भसीन ने कहा
इन बैंक कर्मचारियों के खिलाफ शिकायत मिली थी कि इन्होंने नोटबंदी के बाद 1000 और 500 ने नोट बदलने में गड़बड़ी की थी। शिकायतों में आरोप लगाया गया था कि बैंक अधिकारियों ने आरबीआई के नियमों का उल्लंघन कर 500 और 1,000 रुपये के चलन से बाहर किए गए नोट बदले। सीबीआइ ने भी नोटबंदी लागू होने के बाद भ्रष्टाचार में शामिल होने के आरोप में बैंक अधिकारियों के खिलाफ 30 से ज्यादा मामले दर्ज किए हैं। भसीन का कहना हैं कि, ‘पहली बार निजी क्षेत्र के बैंकों और रिजर्व बैंक अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई।’
सीबीआइ कर रही जांच
सीवीसी ने बताया कि इस साल जनवरी से सितंबर के बीच उसे सरकारी अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार की कुल 20,943 शिकायतें प्राप्त हुई थीं। इनमें से 17,420 शिकायतों का निपटारा कर दिया गया है। सिर्फ 96 शिकायतों को ही मुख्य सतर्कता अधिकारियों के पास जांच के लिए भेजा गया है। आयोग के मुताबिक, 2016 में उसे इस तरह की 51,207; 2015 में 32,149; 2014 में 64,410 और 2013 में 35,332 शिकायतें प्राप्त हुई थीं।
सतर्कता जागरूकता हफ्ता
चीफ विजिलेंस कमिश्नर केवी चौधरी ने बताया कि इस साल पिछले नौ महीनों में करीब 21 हजार भष्टाचार से संबधित शिकायतें मिलीं। इनमें से 17420 शिकायतों को विजिलेंस कमिशन ने खुद निपटाया और 96 शिकायतें ऐसी थीं जिन्हें गहराई से जांच करने के लिए विजिलेंस ऑफिसर्स और सीबीई के पास भेजा गया। विजिलेंस कमीशन 30 अक्टूबर से 4 नवंबर तक देशभर में सतर्कता जागरूकता हफ्ता मनाएगा।

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here