कांगो में बलात्कार मामले में 11 लड़ाकों को आजीवन कारावास

0
26

गोमा। अफ्रीका महाद्वीप के मध्य में स्थित देश कांगो की एक अदालत ने पुरुषों को अलौकिक शक्तियां देने के लिए आयोजित समारोहों के दौरान 37 लड़कियों के साथ बलात्कार के मामलों में 11 मिलिशिया लड़ाकों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। इस मामले की सुनवाई में शामिल रहे मानवाधिकार संगठन ने इस फैसले का स्वागत करते हुए कहा है कि अदालत के आदेश को ऐसे देश के लिए मील का पत्थर बताया है जहां सशस्त्र समूहों द्वारा बलात्कार सामान्य बात है और अक्सर दोषी को सजा भी नहीं मिल पाती थी।

संगठन के अनुसार यीशु की सेना के नाम पर गठित जेशी या येशु से जुड़े इन लड़ाकों ने दक्षिणी प्रांत किवु के कावुमु गांव के पास वर्ष 2013 से 2016 के दौरान 37 लड़कियों का बलात्कार किया था। अधिकांश की उम्र 18 वर्ष से कम थी। अभियोजन पक्ष के अनुसार, समूह के नेता और प्रांतीय सांसद फ्रेडरिक बाटुमाइक ने एक आध्यात्मिक सलाहकार रखा था जिसने लड़ाकों से कहा था कि बहुत छोटे बच्चों के साथ बलात्कार करने से उन्हें अपने दुश्मनों से रहस्यमय सुरक्षा मिलेगी।

संगठन के अनुसार बाटुमाइक समेत मिलिशिया के अन्य सदस्यों को हत्या, एक विद्रोही आंदोलन में सहभागिता और अवैद्य हथियार रखने का भी दोषी ठहराया गया है। अदालत ने कहा है कि बलात्कार और हत्या मानवता के विरुद्ध अपराध हैं। इस घटना को लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर तक हंगामा हुआ था। विभिन्न मानवाधिकार संगठनों ने सरकार पर धीमी गति से कार्रवाई का आरोप भी लगाया। सरकार ने इसके बाद कावुमु गांव में मोबाइल कोर्ट का गठन किया जिसने यह सजा सुनायी है। अदालत ने प्रत्येक बलात्कार पीड़िता को पांच हजार अमेरिकी डॉलर और हत्या के शिकार लोगों के परिजनों को 15-15 हजार अमेरिकी डॉलर सहायता राशि देने का भी आदेश दिया है।

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here