सीधी लोकसभा सीट पर कभी किसी एक दल का नहीं रहा दबदबा

0
17
Sidhi Lok Sabha Seat MP

राज एक्सप्रेस, सीधी। मध्य प्रदेश की लोकसभा की महत्वपूर्ण सीटों में से एक सीधी (Sidhi Lok Sabha Seat MP) में कभी किसी एक दल का लगातार दबदबा नहीं रहा, लेकिन पिछले दो चुनावों से भारतीय जनता पार्टी ने जीत हासिल कर अपनी स्थिति मजबूत की है और कांग्रेस को वापसी करने के लिए कड़ी मशक्कत करनी होगी।

इस सीट पर हुये अब तक के चुनावों पर नजर डाली जाए, तो यहां मुख्य मुकाबला कांग्रेस-भाजपा के बीच रहा है। यह सीट 1952 से 1977 तक अनारक्षित रही सीट पर पहली जीत का सेहरा जहां सोसलिस्ट पार्टी के सिर बंधा, वहीं दो उपचुनावों सहित सात चुनावों में तीन बार कांग्रेस को जीत मिली जबकि एक-एक बार निर्दलीय, भारतीय लोक दल और जनता पार्टी के प्रत्याशी के सिर जीत का सेहरा बंधा था। वर्ष 1980 से 2007 तक यह सीट अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हुई। इस दौरान इस सीट पर एक उप चुनाव सहित हुए नौ चुनावों में कांग्रेस-भाजपा ने चार-चार बार जीत दर्ज की। जबकि एक चुनाव कांग्रेस (तिवारी) ने जीती।

वर्ष 2009 में पुन: अनारक्षित हुई सीधी लोकसभा सीट में भाजपा ने जीत दर्ज की और 2014 में अपनी जीत को बरकारार रखते हुए एक लाख से अधिक अंतर से विजय हासिल की। सीधी संसदीय सीट अंतर्गत आने वाली आठ विधानसभाओं में से सात में भाजपा का और एक में कांग्रेस का कब्जा है । ऐसे में 2019 का सीधी लोकसभा चुनाव जीतना कांग्रेस के लिए टेढ़ी डगर होती दिखाई दे रही है। आठ विधानसभा सीटें सीधी, चुरहट, सिहावल, धौहनी, देवसर, चितरंगी, सिंगरौली और ब्यौहारी है।

पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह का रहा काफी प्रभाव:

देश की राजनीति के चाणक्य माने जाने वाले कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह का अपने गृह जिले की सीधी सीट पर 1980 से 1996 के दौरान काफी प्रभाव रहा है। उनके प्रभाव के चलते इस दौरान हुए 5 चुनावों कांग्रेस को 3 बार और 1 बार उनकी नई पार्टी कांग्रेस (तिवारी) को जीत मिली।

इंद्र कुमार पटेल यहां से लगातार पांच बार जीते:

सीधी विधानसभा सीट से लगातार 5 बार जीत हासिल करने वाले, प्रदेश के पूर्व मंत्री इंद्रजीत कुमार पटेल को कांग्रेस ने 2009 में यहां चुनाव मैदान में उतारा था। उन्हें भाजपा प्रत्याशी गोविंद मिश्रा से करीब 45 हजार से अधिक अंतर से हार का सामना करना पड़ा। वहीं 2014 के चुनाव में पुन: कांग्रेस प्रत्याशी रहे इंद्रजीत कुमार को, रीति रजनीश पाठक से 1 लाख से अधिक मतों के अंतर अंतर से हार का सामना करना पड़ा।

यह भी पढ़ें : लोकसभा चुनाव पर जनता की निगाह, भाजपा पुराना प्रदर्शन दोहराएगी या कांग्रेस की सत्ता भारी पड़ेगी

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image