परंपरागत कला के अर्थशास्त्र को भी समझें: कमलनाथ

0
21
Kamal Nath

राज एक्सप्रेस, भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) ने बुधवार को कहा है कि, हर समाज और समुदाय अपनी परंपरागत कला और कौशल से अपनी जीविका कमाता है। ऐसे में यदि उसे आर्थिक आधार न मिले तो कला और कौशल दोनों खतरे में पड़ जाएंगे। कांग्रेस की ओर से बुधवार को जारी एक विज्ञप्ति के मुताबिक मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि, प्रदेश का दौरा करते हुए उनसे समुदाय विशेष के कुछ युवाओं ने मिल कर कहा कि, वे बेरोजगार हैं और काम चाहते हैं।

उन्होंने बताया कि, वे सिर्फ ढोल बजाना जानते हैं। श्री कमलनाथ ने कहा कि, जो समुदाय पहले से कौशल सम्पन्न है उसे बेरोजगार क्यों रहना चाहिए। सरकार की बारी है कि, वो ऐसे अवसर पैदा करे कि, यही कला कौशल एक आर्थिक गतिविधि बन जाए। उन्होंने कहा कि, व्यवसाय को हिकारत की निगाह से देखना कुछ लोगों की फितरत होती है। समाज की व्यापक सोच इससे अलग है। वह हर व्यक्ति के लिए संभावनाओं की तलाश करता है। उन्हें अवसर देता है और उन वंचितों की आशाओं को नया आकाश दे देता है, जिनके पास उम्मीद के नाम पर कुछ नहीं होता।

कई बैंड ऐसे हैं, जिनकी ख्याति पूरे विश्व में हैं:

मुख्यमंत्री ने कहा कि, कई बैंड ऐसे हैं, जिनकी ख्याति पूरे विश्व में है। कला और संस्कृति को आर्थिक गतिविधियों से जोड़कर ही उन्हें जीवंत बनाया जा सकता है। बैंड एक सूक्ष्म आर्थिक गतिविधि है जो, एक टीम को रोजगार का साधन बनाता है। उन्होंने कहा कि, कई लोक कलाकार उनसे मिल कर विलुप्त होती संगीत परंपराओं के प्रति चिंता जाहिर करते हैं। सरकार को उनका संरक्षण करना होगा और नए ढंग से आर्थिक गतिविधियों से जोड़ना होगा। श्री कमलनाथ ने कहा कि, बैंड बाजा प्रशिक्षण की यही सोच है। इसे एक सूक्ष्म और लघु आर्थिक गतिविधि के रूप में आगे बढ़ाने की कोशिश होगी।

यह भी पढ़ें : एयर स्ट्राइक को लेकर CM कमलनाथ ने, किया केंद्र पर हमला कहा- जानकारी स्पष्ट करना जरूरी 

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image