लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में राजनीतिक किस्मत आजमा रहे 1590 उम्मीदवारों में से 251 पर आपराधिक मामले दर्ज

0
20
251 Candidates Criminal Cases

राज एक्‍सप्रेस, कोलकाता। लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में राजनीतिक किस्मत आजमा रहे 1590 उम्मीदवारों में से 251 पर आपराधिक मामले (251 Candidates Criminal Cases) दर्ज हैं। गैर सरकारी संगठन नेशनल इलेक्शन वाच एंड एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) ने दूसरे चरण में चुनाव में खड़े कुल 1644 उम्मीदवारों में से 1590 की ओर से दायर हलफनामे के विश्लेषण के बाद यह निष्कर्ष निकाला है।

251 के विरूद्ध आपराधिक मामले दर्ज

इस रिपोर्ट में बाकी 54 उम्मीदवारों का विश्लेषण नहीं किया जा सका, क्योंकि उनके हलफनामे का पूरा ब्योरा तथा स्कैन कॉपी मौजूद नहीं थी। रिपोर्ट के मुताबिक 1590 उम्मीदवारों में से 251 के विरूद्ध आपराधिक मामले दर्ज हैं जो कुल उम्मीदवारों का करीब 16 प्रतिशत है। इनमें से 167 उम्मीदवारों के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं जबकि तीन के विरूद्ध दर्ज मामलों में सजा भी सुनायी जा चुकी है।

दूसरे चरण में छह उम्मीदवार ऐसे हैं जिन पर भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत हत्या के मामले दर्ज हैं। चुनाव लड़ रहे 25 उम्मीदवारों पर हत्या के प्रयास के मामले दर्ज किये गये हैं। दूसरे चरण में किस्मत आजमा रहे आठ उम्मीदवारों पर अपहरण, फिरौती के लिये अपहरण तथा लोगों को गलत तरीके से बंधक बनाने के मामले दर्ज हैं। चुनाव मैदान में मौजूद 10 प्रत्याशियों पर विभिन्न प्रकार के महिला के विरूद्ध अपराध जैसे हमला, बलात्कार और जबरन यौन शोषण आदि के मामले दर्ज हैं जबकि 15 उम्मीदवारों पर भड़काऊ भाषण देने के आरोप हैं।

यह भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019: प्रथम चरण में औसतन 67 फीसदी मतदान, 1279 प्रत्याशियों की किस्मत EVM में कैद

इन पाटियों के प्रत्याशियों पर हैं मामले दर्ज

जिन प्रमुख राजनीतिक पार्टियों के उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं उनमें कांग्रेस के 53 में से 23 (43%) प्रत्याशी, भारतीय जनता पार्टी के 51 में से 16 प्रत्याशी (31%), बसपा के 80 उम्मीदवारों में से 16 (20%) अन्नाद्रमुक के 22 उम्मीदवारों में से तीन, द्रमुक के 24 में से 11 उम्मीदवार (46%) तथा एसएचएस के 11 उम्मीदवारों में से चार उम्मीदवारों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। रिपोर्ट के मुताबिक 97 संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों में से 41 में ‘रेड अलर्ट क्षेत्र’ घोषित किया गया है। ‘रेड अलर्ट क्षेत्रों’ का मतलब यह है कि, जहां कम से कम तीन या उससे अधिक उम्मीदवारों की आपराधिक पृष्ठभूमि रही है।

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image