चुनाव आयोग ने CM योगी, मायावती, मेनका और आजम के चुनाव प्रचार पर लगाई रोक

0
22
Election Campaign Ban

राज एक्‍सप्रेस, नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने विवादास्पद भाषणों के जरिए आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के मामलों में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बसपा प्रमुख मायावती पर क्रमश: 72 तथा 48 घंटे के लिए चुनाव प्रचार पर रोक (Election Campaign Ban) लगा दी है। आयोग ने इन दोनों नेताओं को 16 अप्रैल को सुबह 6 बजे से उन्हें चुनाव प्रचार में भाग लेने, जनसभाएं करने, रोड शो करने, मीडिया के समक्ष बयान देने और साक्षात्कार देने पर रोक लगाई है।

आपत्तिजनक भाषण के मामले में नोटिस जारी

आयोग ने योगी आदित्यनाथ को 9 अप्रैल को मेरठ में आपत्तिजनक एवं विवादास्पद भाषण देने के मामले में नोटिस जारी किया था, जबकि मायावती को देवबंद में सात अप्रैल को भड़काऊ भाषण देने के मामले में नोटिस जारी किया था। योगी के किसी प्रकार के चुनाव प्रचार पर 16 अप्रैल को सुबह छह बजे से 72 घंटों के लिए रोक लगी रहेगी।

मायावती पर भी चुनाव प्रचार को लेकर रोक

आयोग ने मायावती के मामले में उनके वीडियो के अध्ययन के बाद पाया कि, मायावती ने अपने भाषण में सांप्रदायिक सौहार्द को भंग करने और आपसी नफरत फैलाने का काम किया है जो कि आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। इसलिए उन्हें 16 अप्रैल को सुबह 6 बजे से 48 घंटे के लिए उन्हें चुनाव प्रचार में भाग लेने, जनसभाएं करने, रोड शो आयोजित करने, मीडिया के सामने बयान देने और साक्षात्कार देने आदि पर रोक लगाई है।

मेनका और आजम भी नहीं कर पाएंगे चुनाव प्रचार

चुनाव आयोग ने केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता मेनका गांधी व रामपुर से सपा प्रत्याशी आजम खान पर चुनाव प्रचार करने को लेकर रोक लगा दी है। आयोग ने मेनका गांधी पर 48 घंटे, जबकि आजम खान पर 72 घंटे तक की पाबंदी लगाई है। यह आदेश मंगलवार सुबह 10 बजे से प्रभावी होगा। केन्द्रीय मंत्री व सुल्तानपुर से भाजपा उम्मीदवार मेनका गांधी और प्रदेश के पूर्व मंत्री व रामपुर से सपा प्रत्याशी मोहम्मद आजम खां के चुनावी भाषणों पर भी ऐतराज उठाया गया था।

यह भी पढ़ें: आयोग ने योगी और मायावती के चुनाव प्रचार पर लगाई रोक

मेनका गांधी ने 11 अप्रैल को सुल्तानपुर लोस सीट की भाजपा प्रत्याशी ने चुनावी जनसभा में मुसलमानों से वोट मांगने पर आपत्तिजनक टिप्पणियां की थीं। मुख्य चुनाव अधिकारी एल.वेंकटेश्वर लू ने सुल्तानपुर के डीएम से इस बाबत रिपोर्ट मांगी थी जो 12 अप्रैल को चुनाव आयोग को भेज दी गई ।

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image