जेट एयरवेज की उड़ानों की सुरक्षा पर खतरा

0
11
Jet Airways

राज एक्सप्रेस, नई दिल्ली। जेट एयरवेज (Jet Airways) का अपने विमानों को उड़ान भरने से रोकने और उड़ानों को रद्द करने का सिलसिला जारी है। इसी बीच जेट एयरवेज कंपनी के विमान रखरखाव इंजीनियरों के संघ ने विमानन क्षेत्र के नियामक नागर विमानन महानिदेशालय को मंगलवार को सूचना दी कि, उन्हें तीन माह से पगार नहीं मिली है और उड़ानों की सुरक्षा जोखिम में है।

जेट एयरवेज के एयरक्राफ्ट इंजीनियर्स वेलफेयर एसोसिएशन ने डीजीसीए को एक पत्र में लिखा है, हमारे लिए अपनी वित्तीय जरूरतों को पूरा करना मुश्किल हो गया है। इसके परिणामस्वरूप विमान इंजीनियरों की मनोवैज्ञानिक स्थिति पर बुरा प्रभाव पड़ा है और यह उनके काम को भी प्रभावित करता है।

जेट एयरवेज की कंपनी के कर्मचारियों ने डीजीसीए को दी सूचना:

ऐसे में देश और विदेश में उड़ान भरने वाले जेट एयरवेज के विमानों की सुरक्षा जोखिम पर है। पत्र के अनुसार, जहां वरिष्ठ प्रबंधन कारोबार में समाधान के तौर-तरीके खोज रहे हैं। हम इंजीनियर पिछले सात माह से समय से वेतन नहीं मिलने से बहुत दबाव में हैं और विशेष तौर पर तीन महीने से तो हमें वेतन मिला ही नहीं है। हम जेट एयरवेज के विमानों की जांच करते हैं, उनकी मरम्मत करते हैं और यह प्रमाणित करते हैं कि विमान उड़ने लायक है या नहीं। जेएएमईडब्ल्यूए ने इस मामले में डीजीसीए से हस्तक्षेप की मांग की है।

 जेट एयरवेज की अग्रिम बुकिंग करा चुके यात्री असमंजस में:

वित्तीय संकट से जूझ रही विमान सेवा कंपनी जेट एयरवेज में अग्रिम बुकिंग करा चुके यात्री रद्द उड़ानों की दिनों दिन बढ़ती संख्या को लेकर असमंजस में हैं। एक यात्री ने बताया कि, उन्होंने कोच्चि के लिए टिकट बुक करायी है। सोमवार रात ईमेल आया कि वह उड़ान रद्द हो गयी है।

जेट एयरवेज के ग्राउंडेड विमानों की समीक्षा करें: प्रभु

केन्द्रीय वाणिज्य, उद्योग एवं नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने भारी आर्थिक संकट से गुजर रही विमानन कंपनी जेट एयरवेज के ग्राउंडेड विमानों, अग्रिम बुकिंग, रद्दीकरण, रिफंड और सुरक्षा के मामले में विमानन सचिव और नागर विमानन महानिदेशालय को समीक्षा करने के निर्देश दिये हैं। श्री प्रभु ने निर्देश पर डीजीसीए ने यह समीक्षा की। अभी जेट एयरवेज के बेड़े में अभी 41 विमान परिचालन में हैं और 603 घरेलू एवं 382 अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को रद्द कर दिया गया है। आने वाले सप्ताह में कंपनी के और विमानों के भी बेड़े से हटने की आशंका है।

एयरलाइन के प्रदर्शन की लगातार निगरानी:

डीजीसीए ने एयरलाइन को यात्रियों को समय पर जानकारी देने, क्षतिपूर्ति, रिफंड और जहां सुविधा हो वैकल्पिक विमान उपलब्ध कराने के मामले में नियमों का पालन करने के निर्देश दिये हैं। एयरलाइन के प्रदर्शन का डीजीसीए लगातार निगरानी करेगा। डीजीसीए यह भी सुनिश्चित कर रहा है कि, जेट एयरवेज के बेड़े में शामिल सभी विमानो चाहे परिचालन में हो या ग्राउंडेड हो सभी का रखरखाच कार्यक्रम पूरा किया होना चाहिए।

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image