विश्वकप से पहले बल्लेबाजी, गेंदबाजी में सुधार की जरूरत: भरत अरुण

0
19
Bharat Arun

राज एक्सप्रेस, नई दिल्ली। टीम इंडिया के गेंदबाजी कोच भरत अरूण (Bharat Arun) ने स्वीकार किया है कि, इंग्लैंड में होने वाले विश्वकप से पहले कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जिनमें सुधार करने की जरूरत है। आस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज में 2-2 की बराबरी हो जाने के बाद भारतीय टीम बुधवार को यहां फिरोजशाह कोटला मैदान में पांचवें और निर्णायक मुकाबले में उतरेगी। भारतीय टीम ने पांचवें मैच की पूर्व संध्या पर कोटला में अभ्यास नहीं किया और विश्राम करना बेहतर समझा।

गेंदबाजी कोच भरत अरूण ने कहा:

गेंदबाजी कोच भरत अरूण ने मंगलवार को कोटला मैदान में संवाददाताओं से कहा कि, टीम ने आज अभ्यास नहीं किया। दरअसल हमने लगातार मैच खेले हैं और टीम की व्यस्तता को देखते हुए खिलाड़ियों ने अभ्यास नहीं किया। हम कल के निर्णायक मुकाबले के लिए मानसिक और शारीरिक रूप से ताजा दम रहना चाहते हैं। भारतीय टीम को मोहाली में चौथे मैच में 358 रन बनाने के बावजूद मिली हार पर अरूण ने स्वीकार किया कि, अब भी कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जिनमें विश्वकप से पहले सुधार करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि, इस सीरीज से खिलाड़ियों को काफी कुछ सीखने को मिला है।

हमें बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों ही क्षेत्रों में विश्वकप से पहले सुधार करना है। उन्होंने कहा कि, हमने इस दौरान अपने सभी संयोजनों को आजमाया है। हम तमाम विकल्पों को देख रहे हैं ताकि विश्वकप से पहले कोई कमी न रह जाए। हमें विश्वकप के लिए इंग्लैंड की परिस्थितियों के मद्देनजर एक संतुलित टीम चुननी है इसलिये हमें इस सीरीज में अपने सभी विकल्पों का इस्तेमाल किया। इंग्लैंड की परिस्थितियां भारत की परिस्थितियों से अलग होंगी और हमें इसी बात को ध्यान में रखकर टीम चुननी है।

धोनी जैसे लीजेंड से पंत की तुलना उचित नहीं:  

भारतीय क्रिकेट टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरूण (Bharat Arun) ने, युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत का बचाव करते हुये कहा है कि, महेंद्र सिंह धोनी जैसे लीजेंड खिलाड़ी से पंत की तुलना करना उचित नहीं है। अरूण ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ पांचवें और अंतिम वनडे की पूर्व संध्या पर मंगलवार को यहां फिरोजशाह कोटला मैदान में संवाददाताओं से कहा कि, धोनी एक लीजेंड खिलाड़ी हैं, जबकि पंत एक उभरते हुए खिलाड़ी हैं। धोनी जैसे बड़े खिलाड़ी से पंत की तुलना करना ठीक नहीं है जो अभी अपने करियर के शुरुआती दौर में गुजर रहे हैं। धोनी को आस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज़ के आखिरी दो वनडे मैचों से विश्राम दिया गया है। और मोहाली में खेले गए चौथे मैच में पंत ने धोनी की जगह ली थी।

टेस्ट टीम में अपनी जगह बना चुके पंत को अभी से धोनी का उत्तराधिकारी माना जा रहा है। मोहाली में 358 जैसे बड़े स्कोर का बचाव न कर पाने पर गेंदबाजों के प्रदर्शन को लेकर गेंदबाजी कोच ने कहा कि, अगर आप पिछले कुछ वर्षाें में टीम की अपार सफलता को देखें तो, 75 फीसदी योगदान गेंदबाजों का रहा है। पिछले मैच को आप एक अपवाद मान सकते हैं। मुझे इस बात की भी खुशी है कि, इस तरह की चीज़ विश्वकप से पहले अभी आ गयी है। जिससे हमें इसमें सुधार करने का मौका मिला। अरूण ने इस बात को माना कि, भारतीय गेंदबाजों का प्रदर्शन मोहाली में उम्मीदों के अनुरूप नहीं रहा।

यह भी पढ़ें: ICC Women’s T20I Rankings : स्मृति मंधाना टी-20 में करियर की सर्वश्रेष्ठ तीसरी रैंकिंग पर 

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image