आलोक वर्मा ने अपनी चुप्पी तोड़ी, कहा झूठे और बेबुनियाद आरोपों के कारण मुझे हटाया गया

0
22
Alok Verma

राजएक्सप्रेस | सीबीआई डायरेक्टर के पद से हटाए जाने के ठीक एक दिन बाद आलोक वर्मा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है| जानकारी के अनुसार, आलोक वर्मा (Alok Verma) ने फायर सर्विसेज एंड होम गार्ड के डायरेक्टर पद से इस्तीफा दे दिया है| अपनी चुप्पी तोड़ते हुए उन्होंने कहा, झूठे और बेहद ही बे बुनियाद आरोपों के कारण मेरा ट्रांसफर किया गया है| वर्मा ने आगे कहा, यह सब केवल एक शख्स के कारण हुआ है जो कि, मुझसे ईर्ष्या करता है| अलोक वर्मा को सीबीआई डायरेक्टर के पद से हटाए जाने पर कई नेताओं ने प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा है|

आलोक वर्मा को गुरुवार को ही सीबीआई डायरेक्टर के पद से हटा दिया गया था| वर्मा का ट्रांसफर करते हुए उन्हें उनके कार्यकाल के बाकी बचे 21 दिनों के लिए फायर सर्विसेज एंड होम गार्ड का डायरेक्टर जनरल बनाया गया था, लेकिन उन्होंने इससे पहले ही अपने पद से इस्तीफा दे दिया| बता दें कि, भ्रष्टाचार के आरोप के बाद 77 दिन की जबरन छुट्टी पर भेजे गए वर्मा एक दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट के आदेश से सीबीआई में लौटे थे, लेकिन कोर्ट ने यह भी साफ कर दिया था कि, अंतिम फैसला चयन समिति ही करेगी|

इसे भी पढ़ें:- 21 दिन बाद रिटायर होने वाले आलोक वर्मा को सीबीआई प्रमुख पद से हटाया

प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता वाली समिति ने आलोक वर्मा को सीबीआई डायरेक्टर के पद से हटाने का फैसला सुना दिया था| वर्मा को हटाने का समिति का फैसला 2:1 के बहुमत से किया गया था| समिति में सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ जस्टिस ए.के. सीकरी और लोकसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल थे| कांग्रेसी नेता मल्लिकाजरुन खड़गे ने इसका विरोध किया, जबकि न्यायमूर्ति एके सीकरी सरकार के साथ खड़े हुए थे| सीबीआई के 55 साल के इतिहास में पहली बार किसी निदेशक की ऐसी विदाई हुई है|

आलोक वर्मा ने अपनी चुप्पी तोड़ी

अपने बयान में आलोक वर्मा ने कहा, सीबीआई एक ऐसी जांच एजेंसी जोकि भ्रष्टाचार से निपटने के लिए प्रमुख मानी जाती है| सीबीआई एक ऐसी संस्था है जिसकी स्वतंत्रता को संरक्षित और सुरक्षित किया जाना चाहिए| इसके कार्य में किसी की दखलअंदाजी नहीं होना चाहिए| उन्होंने आगे कहा, मैंने सीबीआई की साख बनाए रखने की बहुत कोशिश की है, लेकिन कुछ लोग इसकी साख को नष्ट करने का प्रयास कर रहे है|

77 दिन बाद बने, 78 वें दिन हटाया, 79वें दिन दिया इस्तीफा

77 दिन की छुट्टी से लौटने के बाद बुधवार को उन्होंने सीबीआई निदेशक का कार्यभार संभाल लिया था| उन्होंने प्रभारी एम.नागेश्वर राव के फैसले को बदलते हुए विशेष डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ जांच कर रहे अधिकारियों को वापस मुख्यालय बुला लिया था| पद संभालते ही उन्हें हटा दिया गया और इसके अगले दिन यानी 79वें दिन उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया|

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image