Badminton : साइना नेहवाल, सिंधु और मारिन की चाहत- बैडमिंटन में भी हो ग्रैंड स्लैम

0
19
BWF Tough Scheduling

राज एक्सप्रेस। इन दिनों बैडमिंटन में प्रतिस्पर्धाएं बढ़ती ही जा रही हैं। बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (BWF) ने साल 2018 में खिलाड़ियों के लिए नया नियम बनाया है, जिसके तहत पुरुष-महिला श्रेणी में टॉप 15 वर्ल्ड रैंकिंग वाले खिलाड़ियों को साल में कम से कम 12 टूर्नामेंट खेलना अनिवार्य हो गया है। साल में इतने अधिक टूर्नामेंट्स खेलने से खिलाड़ियों पर दबाव बढ़ा है और उनके चोटिल होने का खतरा भी बढ़ा है (BWF Tough Scheduling)।

महिला बैडमिंटन की तीन-तीन दिग्गज खिलाड़ियों ने बीडब्ल्यूएफ को सलाह दी है कि, इतने ज्यादा टूर्नामेंट खेलने से बेहतर है कि, यहां भी टेनिस की ही तरह 4-5 ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट का आयोजन किया जाए, इससे खिलाड़ियों को भी फायदा होगा। बैडमिंटन में टूर्नामेंट्स कम होने से खिलाड़ी खुद को ज्यादा फिट रख पाएंगे और वह टूर्नामेंट्स सीमित होने से कहीं ज्यादा बेहतर परफॉमेर्ंस दे पाएंगे। सलाह देने वाले खिलाड़ियों में साइना नेहवाल, पीवी सिंधु और कैरोलिना मारिन शामिल हैं। तीनों दिग्गजों से जब बैडमिंटन में लगातार बढ़ रही स्पर्धाओं पर बात की तो उन्होंने एकमत होकर यह बात कही कि अब वक्त आ गया है कि, साल में इतने अधिक टूर्नामेंट्स से अच्छा है कि, बैडमिंटन में भी ग्रैंड स्लैम पर सोचा जाए।

साइना ने कहा-

शीर्ष वरीयता साइना नेहवाल ने कहा, “अगर बैडमिंटन टूर्नामेंट्स में कुछ कमी कर दी जाए, तो इससे खिलाड़ियों के चोटिल होने के चांस कुछ कम होंगे। नेहवाल की इस बात से उनकी हमवतन पीवी सिंधु भी पूरी तरह सहमत दिखीं।

पीवी सिंधु ने कहा-

ओलिंपिक में रजत पदक विजेता सिंधु ने अपनी सीनियर साथी नेहवाल की बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, “इस रेट पर हम निश्चिततौर पर अपना बेस्ट नहीं दे सकते। मैं यह कहना चाहूंगी कि, हमें बैडमिंटन टूर्नामेंट को सीमित करना चाहिए, ताकि हम अच्छे से तैयारी कर सकें।”

कैरोलिना मारिन ने कहा-

रियो ओलिंपिक की स्वर्ण पदक विजेता कैरोलिना मारिन ने कहा, “अगर वह खिलाड़ियों को प्रफेशनल बने रहना चाहते हैं, तब उन्हें खिलाड़ियों के साथ ऐसा नहीं करना चाहिए। फिलहाल वह खिलाड़ियों को ज्यादा से ज्यादा टूर्नामेंट खेलने पर मजबूर कर रहे हैं इस हम (खिलाड़ी) चोटिल हो रहे हैं।”

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image