PM मोदी ने ‘स्वच्छता ही सेवा अभियान’ का किया शुभारंभ, सैंकड़ों स्वच्छताग्राहियों से की बात, ITBP के जवानों को दिया धन्यवाद

0
31
Cleanliness Service Campaign

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने आज 15 सितंबर को देश भर में स्वच्छता भारत मिशन को आगे बढ़ाते हुए ‘स्वच्छता ही सेवा अभियान’ (Cleanliness Service Campaign) का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने देश के कोने कोने में सैंकड़ों स्वच्छताग्राहियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बात की और इस आन्दोलन में लोगों के योगदान की सराहना की। इसके साथ ही उन्‍होंने देश को संबोधित करते हुए देश में स्‍वच्‍छता के क्षेत्र में किए गए तमाम सरकारी प्रयासों को बताया। उन्‍होंने कहा कि, स्‍वच्‍छता एक आदत है और इसे सभी को अपने स्‍वभाव में शामिल करना चाहिए, साथ ही उन्‍होंने लोगों से अपील भी की कि, सभी को मिलकर इस अभियान को आगे बढ़ाना चाहिए।

वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये की बातचीत

PM मोदी ने स्‍वच्‍छता अभियान के लिए काम करने वाले देश के अलग-अलग हिस्‍सों में मौजूद लोगों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बिहार, उत्तरप्रदेश, गुजरात, असम, हरियाणा, राजस्थान और तमिलनाडु जैसे अनेक राज्यों के स्वच्छताग्रहियों से बातचीत की। इसके अलावा उन्‍होंने स्कूली छात्रों महिलाओं को भी संबोधित किया और उन्हें इसे और सफल बनाने का आग्रह किया तथा उनके योगदान की भूरी भूरी प्रशंसा की। इसके अलावा PM मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये स्वच्छता अभियान के दूत एवं इस सदी के महानायक अमिताभ बच्चन और मशहूर उद्योगपति रतन टाटा से भी बात की।

PM ने बच्‍चों को स्वच्छता के महत्व के बारे में बताया

प्रधानमंत्री जी लगभग 12:30 बजे के करीब पहाड़गंज के रानी झांसी रोड स्थित बाबा साहेब अंबेडकर उच्च माध्यमिक स्कूल पहुँचे और यहां पहुंचने के बाद प्रधानमंत्री जी बच्चों के साथ स्वच्छता अभियान में शामिल हुए। साथ ही उन्होंने बच्चों से बात भी की और उन्हें जीवन में स्वच्छता के महत्व के बारे में भी बताया। PM मोदी ने ‘स्वच्छता ही सेवा अभियान’ का किया शुभारंभ, सैंकड़ों स्वच्छताग्राहियों से की बात, ITBP के जवानों को दिया धन्यवादआपको बता दें कि, PM मोदी जी सामान्य ट्रैफिक के बीच स्कूल पहुंचे, क्‍योंकि इस दौरान कोई VIP रूट नहीं लगाया गया था और न ही ट्रैफिक को रोकने की कोई व्यवस्था की गयी थी।

इसके बाद उन्‍होंने एक ट्वीट भी किया, ‘’दिल्ली में बाबा साहेब अंबेडकर स्कूल में उत्साही युवा दोस्तों के साथ। देश के युवाओं ने हर मामले में पहल करते हुए मोर्चा संभाला है और स्वच्छता के मामले में सकारात्मक बदलाव का सूत्रपात किया है।‘’

देश के कई इलाके खुले में शौच से मुक्त

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छता को स्वभाव में परिवर्तन का यज्ञ बताते हुए कहा कि, देशवासियों के इस आन्दोलन के कारण ही पिछले 4 साल में देश के 90 % के अधिक इलाके खुले में शौच से मुक्त हो गए हैं, जबकि गत 60-65 सालों में केवल 40 %  इलाके ही मुक्त हो पाए थे। उन्होंने कहा कि, जब चार साल पहले स्वच्छता अभियान शुरू हुआ था तो क्या किसी ने यह कल्पना की थीं कि, 4 वर्षों में देश के 20 राज्य एवं केन्द्रशासित क्षेत्र 450 जिले तथा साढ़े 4 लाख से अधिक गाँव खुले में शौच से मुक्त हो गए और करीब 9 करोड़ शौचालय बन गये। इस अभियान से लोगों के स्वास्थ्य पर सकारात्मक असर पड़ा है और कई गंभीर बीमारियों से मुक्ति भी मिलेगी, यह भारत और भारतवासियों की ताकत है।

PM नरेंद्र मोदी ने कहा कि, स्वच्छता का काम केवल सरकार अकेले नहीं कर सकती है। इसमें सभी की भागीदारी आवश्यक है और आप लोगों ने इसे आन्दोलन बनाकर इस कार्य को सफल बनाया है।

स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट का हवाला देते हुए PM मोदी ने कहा-

इस स्वच्छता आन्दोलन से डायरिया में 30 % कमी आयी है तथा इसमें अभी और भी कमी आयेगी। करीब 3 लाख बच्चों की जान बचाने में यह आन्दोलन सफल रहा है। PM मोदी ने कहा कि, गंदगी गरीब के जीवन में अंधेरे की तरह है और उसे बीमारी के दलदल में धकेल रही है। स्वच्छता अभियान ने उसे इस अंधेरे से बचाया है। उन्होंने इस आन्दोलन में महिलाओं की भूमिका और उनके योगदान को भी रेखांकित करते हुए कहा कि, वह खुले में महिलाओं को सोच करते हुए देख कर इतने पीड़ित हुए कि, उन्होंने इस कार्यक्रम की शुरुआत की। अब स्कूलों में लड़कियों के लिए अलग शौचालय बन जाने से उनके ड्राप आउट में काफी कमी आयी है। केवल शौचालय बन जाने से यह आन्दोलन पूरा नहीं होगा, बल्कि कचरे एवं कूड़े का भी प्रबंधन करना होगा और हम सबको श्रमदान भी करना होगा।

PM मोदी ने अमिताभ बच्चन से की बात  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये अमिताभ बच्चन से स्वच्छता दूत के रूप में उनके अनुभवों के बारे में पूछा तो अमिताभ बच्चन ने उन्हें विस्तार से बताया। उन्‍होंने कहा, आपने जब मुझे इस अभियान में शामिल किया तो मुझे लगा कि, मुझे केवल प्रचार प्रसार स्तर पर ही नहीं, बल्कि व्यक्तिगत स्तर पर जुड़ना चाहिए और इस कार्य के लिए मैं मुम्बई के एक समुद्र तट पर गया। वहां देखा कि, जो कचरा हम समुद्र में फेंक देते हैं, समुद्र उसे हमें लौटा देता है और तट पर बहुत कचरा जमा हो जाता है तथा वह रेत के भीतर जमा हो जाता है।

मैंने एक आदमी को रेत खोद कर कचरा निकलते देखा तो मैंने उसे रेत खोदने वाली एक मशीन खरीद कर दी। फिर उस कचरे को बाहर फेंकने के लिए एक ट्रेक्टर भी दिया। हमने स्वच्छता एक्सप्रेस एक बस भी चलायी, जिसके जरिए करीब 300 गांवो में जाकर साफ सफाई के लिए जागरूकता का प्रसार किया गया।

PM मोदी ने अमिताभ बच्चन के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उनके पिता एवं मशहूर कवि हरिवंश राय बच्चन की पंक्तियां भी सुनायी, जिनमें स्वछता पर जोर दिया गया।  PM मोदी ने ‘स्वच्छता ही सेवा अभियान’ का किया शुभारंभ, सैंकड़ों स्वच्छताग्राहियों से की बात, ITBP के जवानों को दिया धन्यवाद

PM ने उद्योगपति रतन टाटा से की बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्योगपति रतन टाटा से भी बात की। रतन टाटा ने कहा कि, वह इस आन्दोलन को तकनीकी एवं प्रौद्योगिकी के माध्यम से भी मदद करेंगे तथा देश को स्वच्छ बनाने के सपने को पूरा करने में सहयोग करेंगे।

स्‍वच्‍छता एक आदत

PM नरेंद्र मोदी ने जोर देते हुए कहा कि, केवल शौचालयों का निमार्ण करके भारत स्वच्छ हो जाएगा, ऐसा नहीं है। टॉयलेट व कूड़ेदान की सुविधा देना, कूड़े के निस्तारण का प्रबंध करना, ये सभी माध्यम हैं। स्वच्छता एक आदत है जिससे किसी को खुद को रोजाना जोड़ना पड़ता है और व्यवहार में बदलाव लाना भी जरूरी है। उन्‍होंने कहा कि, ये स्वभाव में परिवर्तन का यज्ञ है, जिसमें देश का जन-जन, आप सभी अपनी तरह से योगदान दे रहे हैं।

PM मोदी ने कहा, ‘‘जो कचरा हम पैदा करते हैं, उसका निपटान हमारे रास्ते का एक बड़ा रोड़ा है। ऐसे में कचरा प्रबंधन को हमें और प्रभावी बनाना होगा। उन्होंने कहा कि, वे इस अभियान के लिये मीडिया का धन्यवाद अदा करते हैं, जिनके प्रयास ना सिर्फ जागरूकता तक सीमित रहे, बल्कि इसको रोजगार सृजन का भी माध्यम बनाया है।

ITBP के जवानों को दिया धन्यवाद

प्रधानमंत्री जी ने आईटीबीपी के जवानों को उनके योगदान के लिये धन्यवाद देते हुए कहा, देश को आपकी, सेना के जवानों की जहां भी जरूरत पड़ती है आप सबसे पहले हाज़िर रहते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘सीमा पर दुश्मनों से मोर्चा लेना हो, बाढ़ के संकट से निपटना हो, हर बार आपने देश को ऊपर रखा है। अब स्वच्छता के लिए आपका यह योगदान भी देश को गौरवान्वित कर रहा है। सच में स्वच्छता के लिए सेवा, ईश्वर की सेवा के समान है, बल्कि हमारा तो पारंपरिक और सांस्कृतिक संदेश भी यही रहा है।’

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image