मैं सिर्फ अच्छी फिल्मों का हिस्सा बनना चाहता हूं – अभिषेक बच्चन

0
31
Abhishek Bachchan

लगभग दो साल बाद अभिनेता अभिषेक बच्चन (Abhishek Bachchan) सिल्वर स्क्रीन पर अपनी फिल्म मनमर्जियां लेकर वापसी कर रहे हैं, उनकी यह फिल्म 14 सितंबर 2018 को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। पिछले दिनों फिल्म से जुड़े एक प्रमोशनल इंटरव्यू में हमने अभिषेक बच्चन से उनकी फिल्म को लेकर बातचीत की। पेश हैं हमारी बातचीत के प्रमुख अंश।

इस फिल्म के लिए आपने हां क्यों कहा ?

इस फिल्म का ऑफर सबसे पहले मेरे पास आनंद एल राय लेकर आए थे और उन्होंने कहा कि उनके पास मेरे लिए एक कहानी है। मैंने फिल्म की कहानी सुनी और कहानी मुझे काफी इंटरेस्टिंग लगी, उसके बाद मुझे पता चला कि इस फिल्म का डायरेक्शन अनुराग कश्यप करेंगे। उसी वक्त मैंने सोच लिया था कि यह फिल्म मैं करूंगा क्योंकि आनंद एल राय और अनुराग कश्यप एक साथ मिलकर कुछ बना रहे हैं तो जरूर कुछ अलग होगा इसलिए मैंने यह फिल्म साइन कर ली।

फिल्म में आप पहली बार सरदार के किरदार में हैं, इस बारे में क्या कहेंगे ?

जी हां, पहली बार मैं सरदार का किरदार निभा रहा हूं और यह किरदार निभाकर मुझे काफी मजा आया। मेरी दादी सरदारनी थी, अगर आज वो होती तो मुझे सरदार के किरदार में देखकर काफी खुश होती। हमारी फिल्म अमृतसर में बेस्ड है इसलिए फिल्म के डायरेक्टर अनुराग कश्यप को लगा कि मेरा किरदार फिल्म में सरदार का होना चाहिए लेकिन सच कहूं तो कहानी में इसकी जरुरत नहीं थी।

अनुराग कश्यप के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा ?

अनुराग के साथ काम करने का अनुभव शानदार रहा। उन्होंने हमेशा कुछ नया किया है और वो खुद को कभी रिपीट नहीं करते। अनुराग की खासियत है कि वो हमेशा सेट पर पहुंचने पर अपने सीन्स तैयार करते हैं इसलिए उनके साथ काम करना काफी चैलेंजिंग भी रहता है क्योंकि आपको पता नहीं होता है कि कौन सा सीन आज शूट करना है।

विक्की कौशल के बारे में क्या कहेंगे ?

विक्की एक ब्रिलियंट अभिनेता हैं और वो जिस तरह की फ़िल्में कर रहे हैं वो तारीफ़ के काबिल है। इसी साल उन्होंने राजी की, फिर उसके बाद संजू की और अब मनमर्जियां कर रहे हैं तो वो अपने फैंस को हर फिल्मों में कुछ अलग दे रहे हैं। विक्की सबसे बड़ी खास बात यह है कि वो एक नेचुरल एक्टर हैं और अपने किरदार में हमेशा घुल जाते हैं।

लगभग दो साल बाद आप वापसी कर रहे हैं, दो साल का ब्रेक आपने क्यों लिया ?

मैंने यह ब्रेक इसलिए लिया था ताकि मैं सिर्फ अच्छी फिल्मों का हिस्सा बन सकूं। पिछले दो सालों में मुझे कई फिल्मों के ऑफर आये लेकिन उन फिल्मों में वो बात नहीं थी जिस तरह की बात मैं खोज रहा था। मैंने पिछले कुछ सालों में काफी फ़िल्में कर ली लेकिन उन फिल्मों से मैं खुश और संतुष्ट नहीं था इसलिए अब मैंने यह फैसला किया है कि मैं सिर्फ उन्हीं फिल्मों का हिस्सा बनूंगा जो फ़िल्में मुझे संतुष्ट करेंगी।

आज कल रियलिस्टिक फ़िल्में ही चल रही हैं, इस पर आप क्या कहेंगे ?

देखिए, मेरा मानना है कि सिर्फ अच्छी फ़िल्में चलती हैं फिर चाहे वो कॉमेडी फिल्म हो, रियलिस्टिक फिल्म हो या कुछ और हो। अगर आपकी फिल्म अच्छी है और उसका विषय बढ़िया है तो ऑडियंस खुद आपकी फिल्म देखने आ जाएगी इसलिए सिर्फ रियलिस्टिक फ़िल्में ही चल रही हैं, यह कहना गलत है।

5/5 (3)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image