चीन-पाक में दरार, पाक के लिए मजबूर हो रहा चीन?

0
24
CPEC
भारी आर्थिक दबाव से जूझ रही है पाक सरकार

पाकिस्तान। पाकिस्तान और चीन के बीच संबंधों में इस वक्त कर्ज के कारण तनातनी दिखने लगी है। इमरान खान सरकार के एक आर्थिक सलाहकार ने कहा चीन-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर (CPEC) के लिए लगभग 46 अरब रुपए (62 बिलियन डॉलर) के प्रॉजेक्ट पर एक बार फिर से बातचीत की जाएगी।

पाकिस्तान की सरकार के वरिष्ठ अधिकारी अब्दुल रजक दाऊद ने कहा कि, चीन की कंपनियों को पाकिस्तान में टैक्स में भारी छूट मिल रही है और इसका वह काफी फायदा उठा रहे हैं। प्रॉजेक्ट के लिए शर्तें भी कुछ हद तक गैर-वाजिब हैं और हमें इस पर फिर से विचार करना ही चाहिए। पिछले सप्ताह ही चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने इस्लामाबाद का दौरा किया था और इस डील को दोनों देशों के लिए फायदेमंद बताया था। चीन ने पाकिस्तान पर कभी भी कर्ज का दबाव नहीं बनाया। हालांकि, पाकिस्तान के इस डील को लेकर पुनर्विचार की बात यूं ही नहीं कही जा रही है, इसके पीछे कुछ खास वजह है। पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था इस वक्त रसातल में जा रही है और आईएमएफ से पाक के बेलआउट पैकेज मांगने की उम्मीद की जा रही थी।

चीन का वन रोड ऐंड बेल्ट प्रॉजेक्ट (बीआरआई) में पाकिस्तानी जमीन का उपयोग हो रहा है, लेकिन यह शी चिनफिंग की ही महत्वाकांक्षी योजना है। इस नए सिल्क रूट के तहत पाकिस्तान के अंदर इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित करने में चीन सहायता करेगा। इसमें बलूचिस्तान का ग्वादर पोर्ट बहुत अहम है, जिससे चीन का सीधा संपर्क ओमान की खाड़ी से होगा। बीआरआई प्रॉजेक्ट को चीन के बैंक फाइनैंस कर रहे हैं। इससे पहले चीन के मनमानी शर्तों के कारण मलेशिया ने भी चीन द्वारा अपने देश में पाइपलाइन प्रॉजेक्ट का काम बंद कर दिया।

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image