9/11 के 17 साल: 1988 में ओसामा ने लिखी थी आतंक की स्क्रिप्ट

0
14
9/11
इस घटना ने अमेरिकी सियासत को बदल दिया

वॉशिंगटन। 17 साल पहले 11 सितंबर (9/11) को पूरी दुनिया आतंकी संगठन अलकायदा और उसके सरगना ओसामा बिन लादेन की दहशत से कांप गई थी। न्यू यॉर्क शहर के ट्विन टावर वर्ल्ड सिटी सेंटर और पेंटागन पर हुए आत्मघाती हमले को दुनिया का सबसे भयानक आतंकी हमला माना जाता है। हालांकि, 11 सितंबर 2001 में हुए इस हादसे की कहानी 1988 में ही शुरू हो गई थी। जानें कैसे अल-कायदा ने आतंक और दहशत की यह पटकथा लिखी और कैसे इस घटना ने अमेरिकी सियासत को बदल दिया।

1988 में अमेरिका को बर्बाद करने के मकसद से बना अल-कायदा:

1988 में पाकिस्तान के पेशावर में ओसामा बिन लादेन के घर पर उसके खास 9 सहयोगियों की बैठक हुई थी। बैठक में अल-कायदा नाम तय हुआ, जिसका अरबी में आधार अर्थ होता है। आगे चलकर दुनिया की सबसे खतरनाक आतंकी वारदात को जन्म दिया और कई बड़ी आतंकी घटनाओं से दुनियाभर में दहशत का माहौल बनाया।

अमेरिका के खिलाफ युद्ध का किया था ऐलान:

10 सितंबर 1988 को इस संगठन का एक तरह से औपचारिक जन्म हुआ। अमेरिका के खिलाफ वैश्विक युद्ध का ऐलान करते हुए 20 साल पहले इस संगठन ने केन्या और तंजानिया में अमेरिकी दूतावासों पर हमला किया, जिसमें 224 लोग मारे गए। 17 साल पहले आज के दिन ही इस आतंकी संगठन ने दुनिया के सबसे खूंखार आतंकी हमले को अंजाम दिया था।

9/11 की घटना के बाद बदल गई अमेरिका की सियासत:

अमेरिका और दुनियाभर में 9/11 के आतंकी हादसे के बाद सियासत बदल गई। हालांकि, अल-कायदा पिछले 17 साल में अमेरिकी सुरक्षा को भेदने में असफल रहा और कोई दूसरा बड़ा हमला नहीं कर सका। इस हमले के बाद अमेरिकी मीडिया में ऐसी रिपोर्ट्स भी आई थीं कि अगर वैश्विक आतंकवाद को गंभीरता से लिया जाता तो पूर्व में ही इस आतंकी वारदात को रोका जा सकता था। पिछले 17 साल में अमेरिका ने अरबों रुपए आतंक से मुकाबले और देश की सुरक्षा व्यवस्था को अत्याधुनिक बनाने में खर्च किया है।

2011 में अमेरिकी ऑपरेशन में मारा गया ओसामा

अल-कायदा के बाद आईएस है अमेरिका के निशाने पर, पाकिस्तान में आतंकी ओसामा बिन लादेन की मौत और संगठन की अपनी कमजोरियों के बाद अब अल-कायदा की ताकत बहुत कम हुई है। हालांकि, सीरिया और इराक में आईएस के ठिकानों को बर्बाद करने में अमेरिका पूरी सख्ती बरत रहा है। आईएस के लड़ाकों ने व्यक्तिगत तौर पर कुछ अमेरिकी नागरिकों को निशाना जरूर बनाया, लेकिन अमेरिका के भू-भाग के अंदर कोई आतंकी घटना अब तक अंजाम नहीं दे सका है। हालांकि, पिछले कुछ वषों में आईएस की ताकत भी बहुत कम हुई है।

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image