Recipes:  महाराष्‍ट्रीय व्‍यंजन भाकरवड़ी (Bhakarwadi) कैसे बनाए जानिए

0
26
Bhakarwadi

आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि भाकरवड़ी (Bhakarwadi) कैसे बनाते हैं। भाकरवड़ी एक पारंपरिक मसालेदार महाराष्ट्रियन व्‍यंजन हैं। इसको बनाने में थोड़ी मेहनत तो लगती हैं, लेकिन कई दिनों तक आराम से खाई भी जा सकती हैं। इसका स्‍वाद लाजवाब होता हैं। आप इसे चाय के साथ नाश्‍ते में या किसी भी समय खा सकते हैं। खासकर सर्दियों और बरसात के मौसम में भाकरवड़ी खाना बहुत अच्‍छा लगता हैं।। इसके अंदर भरावन में खसखस का प्रयोग किया जाता हैं। तो चलिए बनाए भाकरवड़ी (Bhakarwadi)।

भाकरवड़ी (Bhakarwadi) बनाने की आवश्‍यक सामग्री :

  • मैदा – 125 ग्राम
  • बेसन – 20 ग्राम
  • इमली की मीठी चटनी – 2 छोटी चम्‍मच
  • नारियल (‍कद्दूकस किया हुआ) – 1 छोटी चम्‍मच
  • खसखस – ½ छोटी चम्‍मच
  • तिल – 1 छोटी चम्‍मच
  • चीनी (शक्‍कर) – 2 छोटी चम्‍मच
  • धनियां पाउडर – 1 छोटी चम्‍मच
  • सौंफ पाउडर – 1 छोटी चम्‍मच
  • लाल मिर्च पाउडर – ½ छोटी चम्‍मच
  • जीरा – ½ छोटी चम्‍मच
  • हल्‍दी पाउडर – ¼ छोटी चम्‍मच
  • अदरक पाउडर – ¼ छोटी चम्‍मच
  • गरम मसाला – ½ छोटी चम्‍मच
  • अजवायन – ½ छोटी चम्‍मच
  • नमक – स्‍वादानुसार
  • पानी – आवश्‍यकतानुसार
  • तेल – तलने के लिए

भाकरवड़ी (Bhakarwadi) बनाने की विधि :

भाकरवड़ी (Bhakarwadi) बनाने के लिए सबसे पहले एक बर्तन में मैदा निकाल लीजिए। अब इसमें थोड़ा तेल, अजवायन, नमक स्‍वादानुसार और बेसन डाल दीजिए। इसके बाद इसमें पानी डालकर आटे के जैसा नरम और चिकना गूंथ लीजिए। गूंथे हुए आटे को थोड़ी देर के लिए ढककर सैट होने रख दीजिए। जब तक तिल, नारियल पाउडर, चीनी, धनिया पाउडर,  सौंफ पाउडर, जीरा, लाल मिर्च पाउडर, नमक, हल्दी पाउडर, अदरक पाउडर, गरम मसाला डालकर इन सभी चीजों को मिक्सर में डाल कर बारीक पाउडर तैयार कर लीजिए।

आगे की विधि :

अब आटा सैट होकर तैयार हैं। हाथ पर तेल लगाकर गुथे हुये आटे को अच्छी तरह मसल कर चिकना कर लीजिए। अब आटे की छोटे-छोटे टुकड़ों को काटकर गोल लोई बनाकर पुरी से बड़े आकर में बेल लीजिए। बेली गई इस पूरी को 2 भागों में काट लीजिए। अब इस पूरी के ऊपर चटनी लगाइये और चारों ओर अच्छे से फैला दीजिए। किनारा थोड़ा छोड़ दीजिए क्योंकि उसे चिपकाना पड़ता हैं। अब 1 छोटी चम्मच मसाला डाल कर, बराबर करते हुये फैलाइए। अब दूसरे भाग पर भी चटनी और मसाला फैला दीजिए। अब जो खाली जगह छोडी़ है उस पर किनारे से थोडा़ सा पानी लगा दीजिए।

अब इसे रोल करें और चिपका दीजिए। दोनों खुले किनारे हाथ से दबाकर बन्द कर दीजिए। अब हाथों की सहायता से इसे रोल करते हुए थोड़ा सा पतला और लम्बा कर लीजिए। अब दूसरे भाग को भी इसी तरह रोल करके तैयार कर लीजिए। अब इसे छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लीजिए। टुकड़ों को प्लेट में रख दीजिए। अब बचे हुए आटे से भी इसी तरह पूरी बेल कर मसाला भर कर रोल बना कर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट कर तैयार कर लीजिए। अब तैयार भाकरवड़ी (Bhakarwadi) को थोड़ी देर के लिए ऐसे ही खुले छोड़ दीजिए जिससे की ये खुश्क हो जाएं।

भाकरवड़ी (Bhakarwadi) तलने के लिए :

भाकरवड़ी (Bhakarwadi) तलने के लिए एक कढ़ाई में तेल डालकर गर्म होने गैंस पर रखिए। तेल गर्म होने पर भाकरवड़ी तेल में डालें। जितनी भाकरवड़ी एक बार तेल में डाली जा सकें डाल दीजिए। मध्यम और धीमी आंच पर भाकरवड़ी को हल्‍का ब्राउन होने तक तलीए। जब भाकरवड़ी अच्छी हल्‍की ब्राउन सिक जाए तब इसे एक प्‍लेट में निकाल लीजिए। सारी भाकरवड़ी इसी तरह तल कर निकाल लीजिए। अब आपकी स्वादिष्ट खस्ता भाकरवड़ी (Bhakarwadi) बनकर तैयार हैं भाकरवड़ी को ठंडा हो जाने के बाद किसी भी एयर टाइट कंटेनर में भर कर रख दीजिए और 2-3 महीने तक जब आपका मन हो इसे सर्व कीजिए।

बेसन खाने के फायदे :

  1. यह हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल का संतुलन बनाये रखता हैं।
  2. बेसन डायबिटीज के मरीज़ों के लिए एक बेहतरीन व्यंजन साबित होता हैं।
  3. य‍ह आयरन की कमी को शरीर में पूरा करने का भी काम करता हैं।
  4. इसमें विटामिन बी पाया जाता हैं, जो सेरोटोनिन बनाने में मदद करता हैं।
  5. सेरोटोनिन मूड को बेहतर करने में मदद करता हैं और तनाव से भी दूर रखता हैं।
  6. इसमें मौजूद फॉस्फोरस हमारे शरीर में मौजूद कैल्शियम के साथ मिलकर हड्डियों के निर्माण में मदद करता हैं।
  7. बेसन में फोलेट की मात्रा होने के कारण गर्भ में पल रहे बच्चे के पूर्ण विकास के लिए लाभकारी होता हैं।
  8. यह थकान को कम करने में सहायता करता हैं और पाचन क्रिया को थोड़ा धीमा कर देता हैं।
  9. यह त्वचा के लिए अत्यंत लाभदायक होता हैं।
  10. बेसन के प्रयोग से ऐलर्जी से छुटकारा मिलता है।
5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image