सरकार ने किया आर्थिक सुधार तो हो गया FDI को लाभ

0
40

नई दिल्ली। सरकार के आर्थिक सुधारों सुधार करने से फ़ॉरन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट (FDI)को लाभ हुआ। देश में फ़ॉरन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट साल 2016-17 में 9 प्रतिशत बढ़कर 43.48 अरब डॉलर रहा। वित्त वर्ष 2015-16 में देश में 40 अरब डॉलर विदेशी निवेश आकर्षित किया गया था।
वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने कहा कि, ”देश में एफडीआई निवेश के बढ़ने का कारण सरकार के एफडीआई व्यवस्था को व्यवहारिक बनाने के लिये साहसिक नीतिगत सुधार हैं। भारत अब विदेशी निवेश के लिये सबसे ज्यादा आकर्षक स्थान बन गया है। इसमें कहा गया है, ”एफडीआई इक्विटी फ्लो 2016-17 में 43.48 अरब डॉलर रहा। किसी एक वित्त वर्ष में यह सबसे ज्यादा है।”
बयान के अनुसार प्राप्त आय के फिर से निवेश की बात की जाये तो कुल एफडीआई पिछले वित्त वर्ष में अब तक के सर्वाधिक 60.08 अरब डॉलर पर पहुंच गया जो 2015-16 में 55.6 अरब डॉलर था। पिछले तीन साल के दौरान सरकार ने 87 क्षेत्रों से जुड़े कुल 21 क्षेत्रों में विदेशी निवेश नियमों को आसान बनाया।
मंत्रालय ने यह भी कहा कि एफडीआई नीति आसान बनाने तथा कारोबार सुगमता बढ़ने से घरेलू उद्योग को बढ़ावा देने, आयात सीमित होने, रोजगार सृजन और मंहगे फ़ॉरन एक्सचेंज के संरक्षण में मदद मिली। बयान के मुताबिक पिछले तीन वित्त वर्ष में एफडीआई इक्विटी प्रवाह करीब 40 प्रतिशत बढ़कर 114.41 अरब डॉलर रहा जो इससे पहले तीन वित्त वर्ष (2011-14) में 81.84 अरब डॉलर था। इसमें से 11.69 अरब डॉलर सरकार के मंजूरी मार्ग के जरिये प्राप्त हुए।
क्या है ये FDI?
एफडीआई (Foreign Direct Investment) का मतलब होता है प्रत्यक्ष विदेशी निवेश। आसान भाषा में किसी भारतीय कंपनी में कोई विदेशी कंपनी निवेश कर सकती है यह FDI या प्रत्यक्ष विदेशी निवेश कहलाता है।

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here