गुरमीत राम रहीम की ख़ुफ़िया गुफा का काला सच सामने आया

0
21

चंडीगढ़। Gurmeet Ram Rahim: साध्वी रेप के आरोपी बाबा राम रहीम के बारे में हर रोज नए खुलासे हो रहे हैं। बाबा की गुफा के बारे में एक काला सच सामने आया है। इस ख़ुफ़िया गुफा के कुछ खास दरवाजे हनीप्रीत के फिंगरप्रिंट से खुलते थे। उन्हीं दरवाजों से हनीप्रीत ने डेरा का खजाना लूटकर 28 अगस्त को भाग गई थी।
जानकारी के अनुसार डेरा प्रमुख राम रहीम की गिरफ्तारी के बाद 4 दिनों तक हनीप्रीत सिरसा में ही रुकी हुई थी। डेरे में मौजूद बाबा की गुफा के खास दरवाजे आरोपी राम रहीम के अलावा सिर्फ हनीप्रीत के फिंगरप्रिंट से खुलते थे।
CID रिपोर्ट में उजागर हुआ है कि 28 अगस्त की रात को हनीप्रीत दो बड़े सूटकेस लेकर वहां से भागी थी। जांच में पता चला है कि पंचकूला हिंसा फैलाने के लिए ब्लैकमनी का उपयोग हुआ था। इसी बीच हरियाणा पुलिस ने राजस्थान के गुरुसर मोडिया से कुछ मुख्य और अहम कागजाद भी बरामद किए है।
पुलिस की जांच में यह स्पष्ट हुआ कि हनीप्रीत इंसा 25 अगस्त की रात करीब 2 बजे सिरसा पहुंची थी और 28 अगस्त की रात एक बड़े नेता की जेड प्लस सुरक्षा की आड़ में दो बड़े सूटकेस लेकर डेरा सच्चा सौदा से राजस्थान की और भाग गई थी। उसके साथ काले शीशे वाली गाड़ियों में राम रहीम का परिवार भी सवार होकर निकला था। गौरतलब है कि गुरमीत राम रहीम की ख़ुफ़िया गुफा के गुप्त दरवाजे या तो उसके फिंगरप्रिंट से खुलते थे या फिर हनीप्रीत और उसके नजदीकी नौकर धर्म सिंह के फिंगरप्रिंट से। लेकिन उस समय गुरमीत सुनारिया जेल में बंद था। और उसका नजदीकी नौकर धर्म सिंह अंबाला की जेल में था इसलिए इन परिस्थितियों में केवल हनीप्रीत ही गुफा के दरवाजे खोल सकती थी।
सूत्रों के अनुसार हनीप्रीत इंसा ने बाबा की गुफा के अलावा जितने भी दरवाजे सेंसर से खुलते थे, और सभी के सेंसर नष्ट कर दिए थे।  यही कारण था कि 7 सितंबर को जब कोर्ट कमिश्नर पुलिस बल के साथ छानबीन के लिए डेरा मुख्यालय पहुंचे थे, तो उनको सभी सेंसर युक्त दरवाजे खुले हुए मिले थे।
हनीप्रीत इंसा 28 अगस्त की रात को दो बड़े सूटकेसों को डेरा से बाहर ले जाने की भनक खुफिया तंत्र की आईबी की रिपोर्ट में भी खुलासा किया गया है। हनीप्रीत इंसा ने सूटकेसों में जो दस्तावेज और धन छुपा कहां रखा था? क्या गुरमीत राम रहीम के पैतृक गांव गुरुसर मोडिया में या फिर कहीं और? पुलिस इनहीं सब बातों को जानना चाहती है? हालांकि हरियाणा के बड़े पुलिस अधिकारियों ने इस बात के संकेत दिए हैं कि हनीप्रीत इंसा ने करीब-करीब सब कुछ कबूल लिया है, लेकिन डेरा सच्चा सौदा की अकूत संपत्ति और नकदी के बारे में अभी तक कोई पुख्ता ज़बूतों का पता नहीं लगा पाई है।

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here