राम मंदिर को लेकर RSS संघचालक मोहन भागवत ने दिया बड़ा बयान

0
32

नई दिल्ली। RSS चीफ मोहनभागवत ने राम मंदिर निर्माण को लेकर फिर एक बार बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर जो भी सुप्रीम कोर्ट का फैसला होगा, उन्हें स्वीकार्य है। एक अखबार में छपी खबर के अनुसार, मोहन भागवत से प्रश्न किया गया था कि क्या आने वाले लोकसभा चुनाव तक राम मंदिर का मसला सुलझ जाएगा। इसके जवाब में भागवत ने कहा कि राम मंदिर और बाबरी मस्जिद मामले पर सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला होगा वो उनके संगठन को मंजूर है। भागवत ने यह पूरी बात एक कार्यक्रम के दौरान कहीं। भागवत ने मंगलवार को 50 देशों के राजदूतों और राजनयिकों से मुलाकात की थी।
इसके साथ भागवत ने पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि उनके पीएम साथ अच्छे रिश्ते हैं और पीएम से कई मसलों पर अच्छी चर्चा होती है। साथ ही उनसे केंद्र सरकार में RSS के दखल को लेकर भी सवाल किया गया था, जिसके जवाब में भागवत ने कहा कि संघ बीजेपी को नहीं चलाता और बीजेपी संघ को नहीं चलाता। यह जरूर है कि स्वयंसेवक होने के नाते विचार-विमर्श किया जाता है।
सरसंघचालक मोहन भागवात 14 सितम्बर से जयपुर में
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत संघ के संगठनात्मक कार्य विस्तार के तहत आयोजित बैठक में भाग लेने के छह दिवसीय प्रवास पर 14 सितम्बर को जयपुर आएंगे। जयपुर प्रांत के संघ चालक डा रमेश अग्रवाल ने बताया कि सरसंघ चालक आगामी 19 सितम्बर तक जयपुर में रहेंगे। उन्होंने बताया कि सरसंघचालक का यह प्रवास संघ के कार्य विस्तार एवं दृढ़ीकरण हेतु रहेगा। वह सम्पूर्ण राजस्थान के भिन्न-भिन्न दायित्व के स्वंयसेवको के साथ छोटी-छोटी बैठके करेंगे। इस दौरान वह राजस्थान क्षेत्र की बैठक लेंगे और खंड कार्यवाहों के अभ्यास वर्ग में शामिल होंगे। उन्होंने बताया कि संघ के संगठनात्मक कार्य विस्तार के लिए सरसंघचालक का राजस्थान क्षेत्र का वार्षिक प्रवास है।
उन्होंने बताया कि निर्धारित कार्यक्रमानुसार डॉ. भागवत 15 से 17 सितम्बर को केशव विद्यापीठ जामडोली में होने वाले संघ के खण्ड कार्यवाह अभ्यास वर्ग में रहेगें। इस वर्ग में राजस्थान के प्रत्येक खण्ड कार्यवाह सहभागी होगें। राजस्थान में 364 खण्ड है, जिन्हें कार्य विस्तार का केंद्र बिंदु बनाने पर जोर दिया जायेगा।
श्री भागवत केशव विद्यापीठ में आयोजित होने वाले वर्ग में संघ कार्य के दैनिक स्वरूप को मण्डल स्तर तक पंहुचाने व शाखाओं के विस्तार पर आयोजित चर्चा में भाग लेगें। राजस्थान में कुल 4619 मण्डलों है, जिसमें जयपुर प्रान्त में 1621, चित्तौड़ प्रान्त में 1818 तथा जोधपुर प्रान्त में 1280 मण्डल है।

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here