अदालत ने हनीप्रीत को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

0
28

पंचकूला। हरियाणा में यहां मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (सीजेएम) की अदालत ने दुष्कर्म के मामले में सज़ा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह की दत्तक पुत्री हनीप्रीत उर्फ प्रियंका तनेजा को आज 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया।
सीजेएम रोहित वत्स ने हनीप्रीत की सहयोगी सुखदीप कौर को भी न्यायिक हिरासत में भेजने के आदेश दिये। पुलिस ने अदालत से दोनों की हिरासत बढ़ाने की मांग नहीं की। अदालत ने दोनों को अम्बाला सेंट्रल जेल भेजने के आदेश जारी करने के साथ ही कहा कि वे वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से अब अदालत में पेश होंगी।
इससे पहले पुलिस ने दोनों का तीन दिन का पुलिस हिरासत समाप्त होने के बाद आज उन्हें पुन: अदालत में पेश किया। इससे पूर्व इसी अदालत ने गत दस अक्टूबर को दोनों का छह दिन का पुलिस रिमांड समाप्त होने के बाद उन्हे फिर से तीन दिन पुलिस रिमांड पर भेजा था।
हनीप्रीत को विशेष जांच दल (SIT) ने गत तीन अक्टूबर को पंजाब के जीरकपुर क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया था। उसके साथ उसकी सहयोगी बठिंडा निवासी सुखदीप कौर को हिरासत में लिया गया था जिसके घर हनीप्रीत बठिंडा में पुलिस से बचते हुये ठहरी हुई थी। दोनों को चार अक्टूबर को अदालत में पेश किया गया जहां से इन्हें दस अक्टूबर तक पुलिस हिरासत पर भेजने के आदेश दिये गये थे।
उल्लेखनीय है कि डेरा प्रमुख को गत 25 अगस्त को दो साध्वियों के यौन शोषण मामले में अदालत के दोषी करार देने के बाद गिरफ्तार कर हेलीकाप्टर से जब रोहतक की सुनारिया जेल ले जाया गया था तो उस समय हनीप्रीत उसके साथ ही गई थी। डेरा प्रमुख ने हनीप्रीत को जेल में उसके साथ ही रहने का पुलिस से अनुरोध किया था जिसे अस्वीकार किये जाने के बाद हनीप्रीत वहां से लापता हो गई थी।
डेरा प्रमुख की गिरफ्तारी के बाद पंचकूला और सिरसा में डेरा समर्थकों की बड़े पैमाने पर हिंसा, आगजनी और पुलिस गोलीबारी की घटनाओं में 40 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी और 250 से अधिक ज्यादा घायल हो गये थे और अनेक सम्पत्तियों को नुकसान पहुंचाया था।
पुलिस ने हिंसा की घटनाओं तथा डेरा प्रमुख को अदालत से फरार कराने की साजिश में कथित तौर पर संलिप्तता को लेकर हनीप्रीत के खिलाफ राष्ट्रद्रोह का मामला दर्ज कर लुकआउट नोटिस जारी किया था।

पुलिस रिमांड के तहत हनीप्रीत ने कहा- राम रहीम को पुलिस से छुड़ाकर विदेश भेजने का प्लान थाबलात्कार के मामले में 20 साल की सज़ा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह की दत्तक पुत्री हनीप्रीत उर्फ प्रियंका तनेजा की तीन दिनों की पुलिस हिरासत आज समाप्त हो गयी। उसे पुन: मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट रोहित वत्स की अदालत में पेश किया जाएगा। दरअसल हनीप्रीत ने एक और बड़ा खुलासा किया। जिसमे 25 अगस्त के दिन राम रहीम को पुलिस से छुड़ाने का एक बड़ा प्लान तैयार किया गया था। जिसके तहत उसे छुड़वाकर विदेश भेजने की तैयारी थी। हालांकि, हरियाणा पुलिस की मौजूदगी के चलते यह प्लान असफल हो गया।

इससे पूर्व इसी अदालत ने 10 अक्टूबर को हनीप्रीत को छह दिनों की पुलिस हिरासत समाप्त होने के बाद उसे फिर से तीन दिनों की हिरासत में भेज दिया था। विशेष जांच दल(एसआईटी)अदालत से आज फिर इस आधार पर हनीप्रीत की हिरासत बढ़ाने का अनुरोध करेगा कि उसे अभी उसका लैप टॉप, मोबाइल फोन और डायरी बरामद करनी है जिसमें डेरा प्रमुख, डेरा की गतिविधियों, फरार चल रहे डेरा के प्रवक्ता आदित्य और पवन इंसा तथा सेवादार गोबी राम को लेकर जानकारी, तथा पंचकूला हिंसा तथा डेरा प्रमुख को अदालत ने फरार कराने की साजिश का खुलासा हो सकता है।

एसआईटी सूत्रों के अनुसार हनीप्रीत ने पूछताछ में बताया है कि उसने अपनी ये तीनों चीजें डेरा की चेयरपर्सन विपासना इंसा को दे दी थीं। एसआईटी ने विपासना को भी आज यहां चंडी मंदिर थाना बुलाया है और वह हनीप्रीत को अदालत में पेश करने से पूर्व उसे और विपासना को आमने-सामने बिठा कर पूछताछ करेगी। विपासना थाने में पहुंच चुकी है। एसआईटी हनीप्रीत के साथ उसकी सहयोगी सुखदीप कौर को भी उसकी छह दिनों की पुलिस हिरासत समाप्त होने के बाद अदालत में पेश करेगी।

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here