EVM हैकिंग का आरोप लगाने वाली पार्टियों को EC कल देगा डेमो

0
35

नई दिल्ली। इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) हैक करने के लिए प्रामाणिकता पर उठे सवालों के बीच चुनाव आयोग कल (शनिवार) को इस संबंध में डेमो देने जा रहा है। चुनाव आयोग इस डेमो के जरिये इस बात को साबित करेगा कि इस इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के साथ किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ नहीं की जा सकती. इसका आयोजना दिल्ली के विज्ञान भवन में चुनाव आयोग द्वारा किया जाएगा और यह डेमो करीब 2घंटे का होगा। इसके अलावा चुनाव आयोग डेमो देने के साथ ही ‘ईवीएम हैकाथॉन’ के लिए तारीख भी घोषित कर सकता है।
गौरतलब है कि बीते पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में BJP की भारी जीत हासिल की थी। इसके बाद लगातार आम आदमी पार्टी (AAP), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और कांग्रेस EVM पर सवाल खड़े कर रहे हैं। विपक्ष का आरोप है कि कई EVM मशीनों में चाहे किसी भी पार्टी को वोट दो, लेकिन वो बीजेपी को ही जाता है। उनका कहना है कि बीजेपी विधानसभा चुनाव और दिल्ली नगर निगम चुनाव में EVM से छेड़छाड़ करके चुनाव जीती है। इतना ही नहीं, इसे सच साबित करने के लिए आप विधायक सौरभ भारद्वाज ने दिल्ली विधानसभा में आप ने EVM की तरह एक मशीन का डेमो दिया था जिसको हैक कर उसके कोड में बदलाव कर यह बताने की कोशिश की गई थी, EVM के साथ छेड़छाड़ की जा सकती है. उसका जवाब देते हुए चुनाव आयोग ने कहा था कि वह इस तरह की एक मशीन थी लेकिन ईवीएम नहीं थी क्योकि EVM के साथ छेड़छाड़ मुमकिन नहीं है। चुनाव आयोग ने पिछले हफ्ते सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की थी और ईवीएम समेत अन्य मुद्दों पर चर्चा की थी। वहीं आप ने कहा था कि ईसी ने हैक करने की प्रतियोगिता आयोजित करने के प्रस्ताव को ठुकरा दिया था। उन्होंने कहा था कि हालांकि ईवीएम के साथ वीवीपीएटी का इस्तेमाल पूरी पारदर्शिता और विश्वसनीयता सुनिश्चित करेगी लेकिन विवाद को समाप्त करने के लिए आयोग चुनौती पेश करेगा। बैठक में दौरान अधिकतर दलों ने कहा था कि भविष्य में सभी चुनाव वीवीपीएटी मशीन से जुडी EVM के जरिए होने चाहिए। हालांकि कुछ पार्टियों के प्रतिनिधियों ने यह भी कहा कि EVM से भरोसा उठ गया है और ईसी को मतपत्रों के जरिए चुनाव कराने चाहिए।

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here