जनता जनार्दन का आशीर्वाद मिला तो शिवराज सिंह रचेंगे इतिहास

0
23
Shivraj Singh Chouhan

राज एक्‍सप्रेस, भोपाल। लोकतंत्र में जिस जनता को जनार्दन कहा गया है, उसने मध्‍यप्रदेश में सत्ता की कुर्सी पर किसी भी दल के एक ही नेता को चार बार मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने का अवसर प्रदान नहीं किया है। इस बार यदि भाजपा को जनता ने बहुमत दिया तो शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ऐसे पहले नेता होंगे, जो चौथी बार मुख्यमंत्री बनकर इतिहास रचेंगे। सन 1956 से अभी तक जनता ने कांग्रेस के 21 नेताओं को सीएम बनाया। जिसमें श्यामाचरण शुक्ल और अर्जुन सिंह ने सर्वाधिक तीन-तीन बार यह पद संभाला।

मध्‍यप्रदेश में 15वीं विधानसभा के चुनाव की शुरुआत हुई तो यह चर्चाएं भी प्रबल हुई कि, इस बार आखिर किस दल के नेता को जनता मुख्यमंत्री के रूप में चुनती है। वर्ष 1956 से अभी तक की अवधि पर गौर करें तो सबसे ज्यादा शासन कांग्रेस ने ही किया है। कांग्रेस में कई नेताओं ने मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए तीन-तीन पारियां खेली हैं, लेकिन सत्ता सिंहासन पर चौथी बार कोई नहीं बैठ पाया है।

  • प्रदेश की जनता ने पहली बार मुख्यमंत्री की कुर्सी पर रविशंकर शुक्ल को बैठाया था।
  • इसके बाद श्यामाचरण शुक्ल ने मध्‍यप्रदेश की सत्ता तीन बार संभाली।
  • अर्जुन सिंह ने भी अपने मुख्यमंत्री कार्यकाल की तीन पारियां खेली हैं।
छह नेताओं ने संभाली दो-दो बार कुर्सी

प्रदेश में कांग्रेस के ही छह नेता ऐसे भी रहे, जो दो-दो बार मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठे। कैलाशनाथ काटजू एवं द्वारका प्रसाद मिश्र को प्रदेश की सत्ता संभालने का मौका दो बार मिला। काटजू 31 जनवरी 1957 से 14 मार्च 1957 तक प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री रहे। 14 मार्च 1957 से 11 मार्च 1962 तक उन्होंने दूसरी बार सत्ता संभाली। इसी प्रकार द्वारका प्रसाद मिश्र 1963 से 1967 तक की अवधि में दो बार प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। प्रकाशचंद्र सेठी 1972 से 1977 तक दो बार प्रदेश के मुख्मयंत्री रहे। मोतीलाल वोरा एवं दिग्विजय सिंह को भी जनता ने दो बार सत्ता की चाबी सौंपी। 1956 से अभी तक प्रदेश में तीन बार राष्ट्रपति शासन भी लागू हो चुका है।

भाजपा में सिर्फ शिवराज तीसरे CM

मध्‍यप्रदेश में भाजपा जैसी पार्टी में सिर्फ शिवराज सिंह चौहान ही हैं, जिन्हें तीन बार मुख्यमंत्री बनने का अवसर प्राप्त हुआ है। 1980 से 1993 तक की अवधि में पहले जनता पार्टी और फिर भाजपा से सुंदरलाल पटवा मुख्यमंत्री रहे। आठ दिसम्बर 2003 से 23 अगस्त 2004 तक उमा भारती प्रदेश की मुख्यमंत्री रहीं, जबकि 23 अगस्त 2004 से 29 नवंबर 2005 तक बाबूलाल गौर को मुख्यमंत्री बनाया गया।

शिवराज सिंह संभाल रहे सत्ता 

इसके बाद से शिवराज सिंह चौहान ही सत्ता संभाल रहे हैं। अब यदि इस बार पार्टी बहुमत में आती है तो शिवराज सिंह चौहान किसी भी दल के पहले ऐसे नेता होंगे, जिन्हें मध्‍यप्रदेश में चार बार मुख्यमंत्री बनने का मौका मिलेगा। इसके साथ ही आज हम आपको मध्‍यप्रदेश में अभी तक मुख्‍यमंत्री पद पर रह चुके मंत्रियों के नामों की लिस्‍ट बता रहे है जो इस प्रकार है…

प्रदेश में अभी तक चुने गए मुख्यमंत्री के नाम
नाम कार्यकाल पार्टी
रविशंकर शुक्ल 1 नवंबर 1956 से 31 दिसम्बर 1956 तक कांग्रेस
भगवंतराव मंडलोई 1 जनवरी 1957 से 30 जनवरी 1957 तक कांग्रेस
भगवंतराव मंडलोई 12 मार्च 1962 से 29 सितंबर 1963 तक कांग्रेस
कैलाश नाथ काटजू 31 जनवरी 1957 से 14 मार्च 1957 तक कांग्रेस
कैलाश नाथ काटजू 14 मार्च 1957 से 11 मार्च 1962 तक कांग्रेस
द्वारका प्रसाद मिश्रा 30 सितंबर 1963 से 8 मार्च 1967 तक कांग्रेस
द्वारका प्रसाद मिश्रा 9 मार्च 1967 से 29 जुलाई 1967 तक कांग्रेस
गोविंद नारायण सिंह 30 जुलाई 1967 से 12 मार्च 1969 तक कांग्रेस
नरेशचंद्र सिंह 13 मार्च 1969 से 25 मार्च 1969 तक कांग्रेस
श्यामा चरण शुक्ल 26 मार्च 1969 से 28 जनवरी 1972 तक कांग्रेस
श्यामा चरण शुक्ल 23 दिसम्बर 1975 से 29 अप्रैल 1977 तक  कांग्रेस
प्रकाश चंद्र सेठी 29 जनवरी 1972 से 22 मार्च 1972 तक कांग्रेस
प्रकाश चंद्र सेठी 23 मार्च 1972 से 22 दिसम्बर 1975 तक कांग्रेस
राष्ट्रपति शासन
29 अप्रैल 1977 से 25 जून 1977 तक
कैलाश चंद्र जोशी 26 जून 1977 से 17 जनवरी 1978 तक जनता पार्टी
विरेंद्र कुमार सकलेचा 18 जनवरी 1978 से 19 जनवरी 1980 तक जनता पार्टी
सुंदरलाल पटवा 20 जनवरी 1980 से 17 फरवरी 1980 तक जनता पार्टी
सुंदरलाल पटवा 5 मार्च 1990 से 15 दिसम्बर 1992 तक भाजपा
राष्ट्रपति शासन
18 फरवरी 1980 से 8 जून 1980
अजरुन सिंह 8 जून 1980 से 10 मार्च 1985 तक कांग्रेस
अजरुन सिंह 11 मार्च 1985 से 12 मार्च 1985 तक कांग्रेस
अजरुन सिंह 14 फरवरी 1988 से 24 जनवरी 1989 तक कांग्रेस
मोतीलाल वोरा 13 मार्च 1985 से 13 फरवरी 1988 तक कांग्रेस
मोतीलाल वोरा 25 जनवरी 1989 से 8 दिसम्बर 1989 तक कांग्रेस
श्यामा चरण शुक्ल 9 दिसंबर 1989 से 4 मार्च 1990 तक कांग्रेस
राष्ट्रपति शासन
16 दिसंबर 1992 से 6 दिसम्बर 1993
दिग्विजय सिंह 7 दिसंबर 1993 से 1 दिसम्बर 1998 तक कांग्रेस
दिग्विजय सिंह 1 दिसंबर 1998 से 8 दिसम्बर 2003 तक कांग्रेस
उमा भारती 8 दिसंबर 2003 से 23 अगस्त 2004 तक भाजपा
बाबूलाल गौर 23 अगस्त 2004 से 29 नवम्बर 2005 तक भाजपा
शिवराज सिंह चौहान 29 नवम्बर 2005 12 दिसम्बर 2008 भाजपा
शिवराज सिंह चौहान 12 दिसंबर 2008 दिसम्बर 2013 भाजपा
शिवराज सिंह चौहान दिसंबर 2013 से अभी तक पदासीन भाजपा

 

No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image