श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने संसद का निलंबन हटाया

0
20
Maithripala Sirisena

राज एक्सप्रेस/कोलंबो। श्रीलंका में जारी राजनीतिक गतिरोध जल्द खत्म हो सकता है। देश के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना (Maithripala Sirisena) ने संसद के निलंबन को हटा दिया है। अधिकारियों ने बताया कि, राष्ट्रपति ने सोमवार को विधायिका की एक बैठक भी बुलाई है। प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को, अचानक बर्खास्त किए जाने का देशभर में विरोध हो रहा है। स्पीकर द्वारा विक्रमसिंघे को प्रधानमंत्री के तौर पर मान्यता देने से संकट और भी बढ़ गया था।

दरअसल, राष्ट्रपति सिरिसेना ने विक्रमसिंघे की जगह, पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे को देश का नया पीएम बना दिया है। इसके साथ ही सिरिसेना ने 16 नवंबर तक के लिए संसद को भी सस्पेंड कर दिया था। जानकारों का कहना है कि, विक्रमसिंघे के समर्थकों को राजपक्षे गुट में लाने के लिए सरकार को समय चाहिए था, इसी कारण संसद को सस्पेंड करने का फैसला किया गया।

गौरतलब है कि, श्री लंका की संसद में कुल 225 सदस्यों में से बहुमत के लिए 113 सदस्यों का समर्थन हासिल करना होता है। एक दिन पहले सिरिसेना और संसद के स्पीकर के बीच भी इस मसले पर चर्चा हुई। सिरिसेना ने बाद में इस बात के संकेत दिए कि, वह अगले हफ्ते संसद का सत्र बुला सकते हैं।

श्रीलंका के राष्ट्रपति ने संसद  की समय पूर्व बुलाई बैठक

श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरीसेना ने देश में, राजनीतिक उथल-पुथल समाप्त करने के प्रयास के तहत, संसद की बैठक निर्धारित तिथि से पहले पांच नवंबर को आहूत करने का फैसला किया है। स्थानीय मीडिया ने गुरुवार को यह जानकारी दी। इससे पहले श्री सिरिसेना ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को हटाने के बाद उभरे, अभूतपूर्व संवैधानिक संकट के मद्देनजर 16 नवंबर तक संसद के सत्रावसान का प्रस्ताव दिया था। स्पूतनिक के मुताबिक, श्री सिरीसेना को देश में हालिया विरोधों के बाद पांच नवंबर को संसद की बैठक आयोजित करने का निर्णय लेना पड़ा। मंगलवार को श्रीलंका के लोगों ने राजधानी में सड़कों पर कब्जा कर लिया, जिसके बाद संकट समाधान के लिए तुरंत संसद सत्र बुलाया गया।

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image