गोवा संकट : राज्यपाल से मिले कांग्रेस एमएलए

0
13
Goa crisis
कांग्रेस ने BJP को बहुमत साबित करने का निर्देश देने को कहा: Goa crisis

पणजी। Goa crisis: गोवा में कांग्रेस के विधायकों ने मंगलवार को राज्यपाल मृदुला सिन्हा से मुलाकात की और उन्हें भाजपा सरकार को विधानसभा में बहुमत साबित करने का निर्देश देने के लिए कहा। यह कदम ऐसे समय उठाया गया है जब 62 वर्षीय CM मनोहर पर्रिकर अग्नाशय की बीमारी का इलाज कराने के लिए दिल्ली में एम्स में भर्ती हैं।

राज्यपाल ने तीन-चार दिनों के लिए टाला:

विपक्ष के नेता चंद्रकांत कावलेकर के नेतृत्व में कांग्रेस विधायकों ने मांग की कि राज्यपाल को विधानसभा का एकदिवसीय सत्र बुलाकर बहुमत साबित करवाना चाहिए। कावलेकर ने कहा कि राज्यपाल ने उन्हें आश्वासन दिया कि वह अगले तीन-चार दिनों में इस मुद्दे पर उन्हें अवगत कराएंगी।

कांग्रेस ने किया ये दावा

राज्यपाल के साथ बैठक के दौरान कांग्रेस विधायकों ने कहा कि, 40 सदस्यीय विधानसभा में पर्रिकर के नेतृत्व वाले गठबंधन के पास बहुमत से कम आंकड़े हैं और सरकार बनाने के लिए कांग्रेस के पास आवश्यक संख्या है। सिन्हा के साथ मुलाकात के बाद कावलेकर ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘राज्य सरकार सदन में साबित करे कि उसके पास बहुमत है अन्यथा हम दिखाएंगे कि हमारे पास उनसे ज्यादा विधायक हैं।’ गोवा के 40 सदस्यीय सदन में कांग्रेस के 16 विधायक हैं। गोवा फॉर्वड पार्टी (जीएफपी), महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी), राकांपा और निर्दलियों के सहयोग से राज्य का शासन भाजपा चला रही है। विधानसभा में भाजपा के 14 विधायक, जीएफपी और एमजीपी के तीन-तीन सदस्य और राकांपा का एक सदस्य है। तीन निर्दलीय विधायक हैं।

निर्मला सीतारमण का तंज

दिल्ली में रक्षा मंत्री और BJP की वरिष्ठ नेता निर्मला सीतारमण ने कहा कि, कांग्रेस की पहल से सत्ता हथियाने की उसकी बेचैनी झलकती है। उन्होंने संवाददाताओं के साथ बातचीत में कहा, ‘‘मुख्यमंत्री बीमार हैं। अन्यथा वह काम से अलग नहीं रहते। कांग्रेस को CM की बीमारी में अवसर दिखता है। वाकई मुझे इससे दुख होता है।’’ यह दिखाता है कि बेचैनी (कांग्रेस के अंदर) का स्तर कितना है।

कांग्रेस विधायकों ने राज्यपाल से भी अपील की:

कांग्रेस विधायकों ने राज्यपाल से यह भी अपील की कि विधानसभा भंग नहीं होने दें। राज्य में पिछले वर्ष फरवरी में विधानसभा चुनाव हुए थे। कावलेकर ने कहा, ‘‘BJP के पास जब आवश्यक संख्या नहीं होती है तो उसकी आदत है कि, सदन भंग करने की अनुशंसा कर देती है। राज्यपाल को गोवा में इस तरह का काम करने की अनुमति नहीं देनी चाहिए क्योंकि सदन में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी है।’’ कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘हम डेढ़ वर्ष के अंदर एक और चुनाव नहीं चाहते हैं।’’

गोवा में कांग्रेस के विधायकों ने मंगलवार को राज्यपाल मृदुला सिन्हा से मुलाकात की और उन्हें BJP सरकार को विधानसभा में बहुमत साबित करने का निर्देश देने के लिए कहा। यह कदम ऐसे समय उठाया गया है जब CM मनोहर पर्रिकर (62) अग्नाशय की बीमारी का इलाज कराने के लिए दिल्ली में एम्स में भर्ती हैं।

कांग्रेस विधायकों ने मांग की:

विपक्ष के नेता चंद्रकांत कावलेकर के नेतृत्व में कांग्रेस विधायकों ने मांग की कि राज्यपाल को विधानसभा का एकदिवसीय सत्र बुलाकर बहुमत साबित करवाना चाहिए। कावलेकर ने कहा कि राज्यपाल ने उन्हें आश्वासन दिया कि वह अगले तीन-चार दिनों में इस मुद्दे पर उन्हें अवगत कराएंगी।

राज्यपाल के साथ बैठक में कांग्रेस विधायकों ने कहा कि 40 सदस्यीय विधानसभा में पर्रिकर के नेतृत्ववाले गठबंधन के पास बहुमत से कम आंकड़े हैं और सरकार बनाने के लिए कांग्रेस के पास आवश्यक संख्या है। सिन्हा के साथ मुलाकात के बाद कावलेकर ने संवाददाताओं से कहा, राज्य सरकार सदन में साबित करे कि उसके पास बहुमत है अन्यथा हम दिखायेंगे कि हमारे पास उनसे ज्यादा विधायक हैं। गोवा के 40 सदस्यीय सदन में कांग्रेस के 16 विधायक हैं।
गोवा फॉर्वड पार्टी (जीएफपी), महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी), राकांपा और निर्दलियों के सहयोग से राज्य का शासन भाजपा चला रही है। विधानसभा में BJP के 14 विधायक, जीएफपी और एमजीपी के तीन-तीन सदस्य और राकांपा का एक सदस्य है। तीन निर्दलीय विधायक हैं।

कावलेकर ने कहा:

कांग्रेस विधायकों ने राज्यपाल से यह भी अपील की कि विधानसभा भंग नहीं होने दें। राज्य में पिछले वर्ष फरवरी में विधानसभा चुनाव हुए थे। कावलेकर ने कहा, BJP के पास जब आवश्यक संख्या नहीं होती है, तो उसकी आदत है कि, सदन भंग करने की अनुशंसा कर देती है। राज्यपाल को गोवा में इस तरह का काम करने की अनुमति नहीं देनी चाहिए क्योंकि सदन में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी है। कांग्रेस नेता ने कहा, हम डेढ़ वर्ष के अंदर एक और चुनाव नहीं चाहते हैं।

गोवा कांग्रेस के विधायक मंगलवार  शाम राज्यपाल मृदुला सिन्हा से मुलाकात कर मनोहर पर्रिकर नीत सरकार को बर्खास्त करने तथा अपनी पार्टी को वैकल्पिक सरकार के गठन के लिए दावा करने की इजाजत देने की मांग की। विधायकों और राज्यपाल मृदुला सिन्हा के बीच यह मुलाकात शाम 6:30 के आसपास हुई।

इस समय गोवा के CM बीमारी की वजह से एम्स अस्पताल में भर्ती हैं:

पूर्व CM दिगंबर कामत ने कहा कि, अगर हमें मौका दिया जाता है तो फिर हम सदन में बहुमत साबित कर के दिखा देंगे। हालांकि, कामत ने इस बात की जानकारी नहीं दी कि वे बहुमत का आंकड़ा कैसे जुटाएंगे जबकि उनकी पार्टी के पास सिर्फ 16 विधायक ही हैं। बता दें कि, इस समय गोवा के CM बीमारी की वजह से एम्स अस्पताल में भर्ती हैं। अग्नाशय संबंधी बीमारी को लेकर डॉक्टरों की टीम उनकी जांच कर रही है। 6 सितंबर को अमेरिका में मेडकल जांच कराने के बाद वापस लौटे पर्रिकर को गुरुवार की शाम को गोवा के कैंडोलिम में भर्ती कराया गया था। उन्हें इस साल की शुरुआत में करीब तीन महीने अमेरिका में अग्नाशय संबंधी बीमारी का उपचार किया गया था।

पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने 40 में से कुल 16 सीटों पर कब्जा किया था। इसके साथ ही पार्टी सदन में सबसे अधिक विधायकों वाली पार्टी बन गई थी। वहीं, BJP के पास सदन में 14 विधायक हैं। लेकिन बीजेपी ने गोवा फॉरवर्ड पार्टी और महाराष्ट्र गोमंतक पार्टी के साथ गठबंधन करके सरकार बनाने के लिए जरूरी नंबर जुटा लिए थे। गोवा में सरकार बनाने के लिए बहुमत का आंकड़ा 21 का है।

दो अन्य मंत्री भी हैं बीमार

CM मनोहर पर्रिकर के अलावा राज्य के दो अन्य मंत्री भी इस समय बीमार हैं और इलाज करा रहे हैं। मंत्री फ्रांसिस डीसूजा और पंडुरंग मदैकर इस समय अस्पताल में इलाज करा रहे हैं। गोवा कांग्रेस ने राज्यपाल से मुलाकात की राज्य के कांग्रेस नेताओं और राज्यपाल मृदुला सिन्हा के बीच यह मुलाकात शाम को हुई।

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image