माल्या मामले में PM की चुप्पी पर कांग्रेस का हमला

0
12
Vijay Mallya Case

नई दिल्ली/कुरनूल। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने PM मोदी और वित्त मंत्री जेटली पर जबानी हमला करते हुए कहा कि, शराब कारोबारी माल्या (Vijay Mallya Case) वित्त मंत्री की जानकारी में देश से भाग निकला और PM ने इस मुद्दे पर अब तक चुप्पी साध रखी है। श्री गांधी ने विशाल रैली ‘सत्यमेव जयते‘ को संबोधित करते हुए कहा, ‘सारा देश जानता है कि माल्या चोर है, जिसने सार्वजनिक क्षेत्र की बैंकों से नौ हजार करोड़ रुपए चुराए हैं। वह श्री जेटली की जानकारी के बावजूद वह देश छोड़कर भागा। दोनों (वित्त मंत्री और माल्या) के बीच कुछ सांठगांठ होने पर ही उसे भागने की अनुमति दी गई।’

जेटली को मंत्रिमंडल से हटाए जाने की मांग :

उन्होंने आरोप लगाया कि, वित्त मंत्री और माल्या के बीच एक सौदा हुआ था। जब माल्या देश छोड़कर भागा तो वित्त मंत्री को इसकी जानकारी थी। चौकीदार (PM मोदी) ने इस मामले में अब तक एक शब्द भी नहीं कहा। मैं PM से श्री जेटली को मंत्रिमंडल से हटाए जाने की मांग करता हूं।’

श्री मोदी पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि, PM ऊपर-नीचे, दायें-बायें देखते हैं, लेकिन मेरी आंखों में नहीं देखते। अगर आप विशेष राज्य के दर्जे की बात कहेंगे, तो वह आपकी आंखों में नहीं देंखेंगे। वह अपने को देश का चौकीदार होने का दावा करते हैं, लेकिन चौकीदार ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने चोरों के लिए रात में दरवाजा खुला छोड़ रखा है।’

रॉफेल सौदे का मुद्दा उठाते हुए कहा :

उन्होंने विवादित रॉफेल सौदे का मुद्दा उठाते हुए कहा कि पूर्ववर्ती संप्रग सरकार ने 526 करोड़ रुपए प्रति लड़ाकू विमान खरीदने का सौदा किया था, लेकिन BJP नीत राजग सरकार ने 1600 करोड़ रुपए प्रति विमान का सौदा किया है। इसका ठेका भी रिलायंस ग्रुप के अध्यक्ष अनिल अंबानी को दिया गया, जिन्हें इस क्षेत्र को कोई अनुभव नहीं है।

श्री गांधी ने कहा कि, तत्कालीन PM मनमोहन सिंह ने पांच साल के लिए आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा (एससीएस) दिये जाने का आश्वसन दिया था, लेकिन तब विपक्षी BJP ने 10 वर्षों की मांग उठायी। जब BJP केंद्र की सत्ता में आयी तो उसने एससीएस से इंकार ही कर दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि, श्री मोदी ने न केवल आंध्र प्रदेश को एससीएस से इंकार किया है बल्कि राज्य के नेताओं को अपमानित भी किया है।

रैली को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एन रघुवीर रेड्डी और पूर्व CM एन किरण कुमार रेड्डी ने भी संबोधित किया। रैली के दौरान दिलचस्प तथ्य यह भी रहा कि श्री गांधी ने आंध्र प्रदेश के CM एन चंद्रबाबू नायडू की आलोचना नहीं की। करीब 40 मिनट के भाषण में उन्होंने एक बार भी श्री नायडू का नाम तक नहीं लिया।

‘फोन ए फ्रेंड हेल्पलाइन’ बनी

कांग्रेस ने भगोड़े विजय माल्या के मामले में मंगलवार को PM मोदी की चुप्पी पर सवाल किया और कहा कि, वित्त मंत्री अरुण जेटली को बर्खास्त किया जाये तथा मामले की व्यापक एवं उच्चस्तरीय जांच शुरू की जाये। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह भी कहा कि, इस मामले में PM कार्यालय, जेटली, वित्त मंत्रालय के अधिकारियों, CBI के कुछ शीर्ष अधिकारियों और संबंधित बैंकों के शीर्ष प्रबंधन की भूमिका की जांच होनी चाहिए। सुरजेवाला ने कहा, ऐसा लगता है कि BJP भगोड़े के लिए ‘फोन ए फ्रेंड हेल्पलाइन’ बन गई है।

माल्या मामले में कुछ यही हुआ था। इसमें सरकार के उच्चतम स्तर पर मिलीभगत, साझेदारी और सहयोग था। माल्या के खिलाफ 29 जुलाई, 2015 को वित्तीय अनियमितता के लिए प्राथमिकी की गयी। 16 अक्टूबर, 2015 को हिरासत में लेनेवाला लुकआउट नोटिस जारी हुआ। इसके बाद सीबीआई के संयुक्त निदेशक एके शर्मा और एसपी हर्षिता लुत्तालोरी आव्रजन प्रशासन को लिखकर यह कहते हैं कि वे माल्या के खिलाफ लुकआउट नोटिस वापस लेते हैं।

पीएमओ या कार्यालय में कौन व्यक्ति कह रहा था कि माल्या को भागने दिया जाये। सीबीआई की तरफ से जो स्पष्टीकरण दिया गया है वो हास्यास्पद है। उन्होंने सवाल किया कि सीबीआई ने लुकआउट नोटिस के संदर्भ में अपना बयान बार-बार क्यों बदला? बैंकों को किसने कहा कि माल्या के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाये?

कौन है वित्त मंत्रालय में जो देश के पैसों की रक्षा की बजाय भगोड़े की रक्षा में खड़ा था? सुरजेवाला ने कहा, एक मार्च, 2016 को जेटली से माल्या संसद में मिलता है और उनसे कहता है कि, वह विदेश भाग रहा है। जेटलीजी चुप्पी साध लेते हैं। उसे क्यों भागने दिया?

5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image