Asian Games 2018 : रंगारंग रहा एशियाई खेलों का उद्घाटन समारोह, नीरज की अगुआई में उतरा भारत

0
19
Asian Games 2018 : रंगारंग रहा एशियाई खेलों का उद्घाटन समारोह ,नीरज की अगुआई में उतरा भारत
Asian Games 2018 Opening Ceremony:

इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता के गेलोरा बुंग कार्नो स्टेडियम में 18th Asian Games 2018 का रंगारंग आगाज किया गया। एशियन गेम्स को ओलंपिक काउंसिल ऑफ एशिया ऑर्गनाइज करवाती है। यह गेम्स हर 4 साल में आयोजित किए जाते हैं। ओलंपिक गेम्स के बाद दुनिया में यह दूसरा सबसे बड़ा मल्टी स्पोर्ट इवेंट है। इस साल 45 देशों के खिलाड़ियों ने 55 इवेंट में हिस्सा लिया है। आज (रविवार) से गेम्स की शुरुआत होगी। ये गेम्स 18 अगस्त से शुरू होकर 2 सितंबर तक चलेंगे।

120 मीटर लंबा मंच

एशियाई खेलों के शुभारंभ समारोह में जिस मंच का प्रयोग किया गया वह 120 मीटर लंबा, 30 मीटर चौड़ा और 26 मीटर ऊंचा है जो कि एक खूबसूरत पहाड़ का रूप है और यह इंडोनेशिया की हरियाली का प्रतीक भी है।

18 अगस्त से 2 सितंबर तक होने वाले इन खेलों में 45 देशों के तकरीबन 10 हजार से ज्यादा खिलाड़ी भाग ले रहे हैं। इन सभी के बीच 40 खेलों की 465 स्पर्धाओं में भिड़ंत होगी। भारत ने भी इन खेलों में अपना अब तक का सबसे बड़ा दल भेजा है। जिनसे पदकों की उम्मीदें भी ज्यादा हैं। साल 2016 में अंडर-20 भालाफेंक स्पर्धा में विश्व रिकॉर्ड के साथ स्वर्ण पदक जीतने वाले नीरज चोपड़ा ने भारतीय दल का नेतृत्व किया।Asian Games 2018 : रंगारंग रहा एशियाई खेलों का उद्घाटन समारोह ,नीरज की अगुआई में उतरा भारत

तिरंगा लिए सबसे आगे चल रहे थे नीरज

जूनियर विश्व चैंपियन और राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा की अगुआई में भारत का मजबूत दल शनिवार को 18th Asian Games 2018 के गेलोरा बुंग कार्नाे स्टेडियम में आयोजित उद्घाटन समारोह में उतरा। हरियाणा के 20 साल के दिग्गज एथलीट नीरज तिरंगा लिये सबसे आगे चल रहे थे। उनके पीछे भारतीय खिलाड़ियों के हाथों में तिरंगे थे और भारतीय दल के निकलने के समय भारत का राष्ट्रगान जन गण मन स्टेडियम में गूंज रहा था।

भारतीय खिलाड़ियों ने दर्शकों की तरफ हाथ हिलाते हुए अभिवादन किया। जब भारतीय दल गुजरा तो उस समय पूर्व आईओए प्रशासक रणधीर सिंह ने तालियां बजाते हुये खिलाड़ियों का हौंसला बढ़ाया। भारतीय महिला खिलाड़ी लेजर और ट्राउजर में उद्घाटन समारोह में शामिल हुईं। इस दल में 79 साल की रीता चोसी एशियाई खेलों में पहली बार शामिल किये गये ब्रिज खेल में देश की सबसे उम्रदराज़ पदक दावेदार के रूप में उतर रही हैं।

572 खिलाड़ियों की अगुवाई

भारत ने इन खेलों में 572 एथलीटों सहित कुल 804 सदस्यीय दल उतारा है जो 36 खेलों में भाग लेगा। एशियाई खेलों में दुनिया के 45 देशों से 10,000 एथलीट हिस्सा ले रहे हैं जो कुल 58 खेलों में चुनौती पेश करेंगे। स्टेडियम में इंडोनेशिया की संस्कृति दर्शाने के लिये बकायदा एक पहाड़ बनाया गया था जहां से एक विशाल झरना गिर रहा था। उद्घाटन समारोह के लिये 120 मीटर लंबा, 30 मीटर चौड़ा और 26 मीटर ऊंचा मंच बनाया गया था। मंच की पृष्ठभूमि में बने पहाड़ के साथ इंडोनेशिया के खूबसूरत पौधे समारोह में चार चांद लगा रहे थे।

उत्तर व दक्षिण कोरिया के खिलाड़ी आए एक साथ

उद्घाटन समारोह की सबसे खास बात उत्तर और दक्षिण कोरिया के खिलाड़ियों का हाथ में हाथ डालकर एक साथ आना रहा। उस दौरान दोनों देशों के नेता हाथों को पकड़े अपनी जगह खड़े थे। दोनों कोरियाई देश कुछ खेलों में एक साथ हिस्सा लेंगे। यह पहला मौका था जब उद्घाटन समारोह में ईरान की महिला निशानेबाज एलाह अहमदी ने ध्वजवाहक की भूमिका निभाई। लगातार 10वीं बार पदक तालिका में शीर्ष स्थान पाने के इरादे से उतरे चीन के खिलाड़ी भी पूरी गर्मजोशी में नजर आये। चीन ने इन खेलों में 845 खिलाड़ी उतारे हैं। उद्घाटन समारोह में इंडोनेशियाई गायक अंगीन के साथ रायसा, तुलुस, इदो काडरेलॉजिट, पुत्री अयु, फातिन, जीएसी, कामसेन और वाया वेलेन ने अपनी मनमोहक प्रस्तुतियां दीं।

सुशील और बजरंग से स्वर्ण की उम्मीद

भारत को 18वें एशियाई खेलों में सुनहरी शुरूआत दिलाने का दारोमदार दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार और राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण विजेता बजरंग पूनिया पर रहेगा। एशियाई खेलों में रविवार से प्रतियोगी मुकाबलों की शुरूआत होने जा रही है और पहले ही दिन कुश्ती में फ्री स्टाइल के पांच वजन वर्गाें 57, 65, 74, 86 और 97 किग्रा का फैसला होगा। इन पांच वर्गाें में भारत की सबसे बड़ी उम्मीद राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण विजेता सुशील और बजरंग हैं। दोनों ही पहलवान शानदार फार्म में हैं और भारत की स्वर्णिम उमीदों को पहले ही दिन परवान चढ़ा सकते हैं। 74 किग्रा वर्ग के पहलवान सुशील ने मुकाबले की पूर्व संध्या पर खुद को पूरी तरह फिट और तैयार बताया।

उन्होंने कहा, मैं इस समय अपनी पूरी फार्म में हूं। मेरा हमेशा से मानना है कि सामने वाला प्रतिद्वंद्वी छोटा या बड़ा, जूनियर या सीनियर नहीं होता है बल्कि आपको हर विपक्षी को पूरी गंभीरता के साथ लेकर लड़ना होता है।

सुशील ने इस साल गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्णिम हैट्रिक पूरी की थी। सुशील विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक, एशियाई चैंपियनशिप में स्वर्ण और लगातार दो ओलंपिक में कांस्य तथा रजत पदक जीत चुके हैं लेकिन उनके पास एशियाई खेलों का स्वर्ण पदक नहीं है। सुशील ने एशियाई खेलों के लिए दो बार जार्जिया जाकर अपनी तैयारियों को मजबूत किया है। सुशील हाल में जार्जिया में थे जहां उन्होंने रूसी पहलवानों के साथ अभ्यास किया था।

महिला वर्ग में साक्षी मलिक पर नजरें

महिला पहलवानों में ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक और इस साल गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में 50 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीतने वाली विनेश भी पदक दावेदार हैं। विनेश ने पिछले एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता था। सुशील और बजरंग के अलावा संदीप कुमार 57, पवन कुमार 86 और मौसम खत्री 97 किग्रा वर्ग में अपनी ताल ठोकेंगे। इन पहलवानों के लिये खुद को साबित करने का यह एक अच्छा मौका है।

शुभकामनाएं –

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी-

केंद्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़-

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी-

सचिन तेंडुलकर-
BAI Media-
Team India-
Boxing Federation-
No ratings yet.

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image