International Yoga Day 21 जून को ही क्यों मनाया जाता है जानिए भारत सहित विश्वभर का रिकॉर्ड

0
62
International Yoga Day
विश्वभर में चौथा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (4th International Yoga Day) मनाया गया..

21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) मानाने का कारण है। 21 जून ग्रीष्म सक्रांति के नाम से जाना जाने वाला, उत्तरी गोलार्ध का सबसे लम्बा दिन होता है। भारतीय संस्कृति के अनुसार इस दिन सूर्य दक्षिणायन हो जाता है। यह समय आध्यात्मिक सिद्धियों को दिलाने के साथ ही ऊर्जावान होता है। जो मनुष्य को लम्बी आयु प्रदान करता है। विश्वभर में आज चौथा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया है। योग को भारत में शरीर को स्वस्थ रखने की पुरातन परम्परा की एक क्रिया के रूप में माना जाता है। योग हमारे ऋषि-मुनियों की देन ही है, जो कि हमारे मानसिक शारीरिक और बौद्धिक विकास में सहायक होता है।

International Yoga Day 21 जून को ही क्यों मनाया जाता है जानिए भारत सहित विश्वभर का रिकॉर्ड

International Yoga Day की कब हुई शुरुआत

21 जून 2015 को PM नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में International Yoga Day की शुरुआत हुई। इसमें करीब 35 हजार लोगों एवं लगभग 84 देशों के प्रतिनिधियों ने राजपथ पर योग के 21 आसन किये थे। इस समारोह में दो गिनेस रिकॉर्ड बने। पहला सबसे बड़ी योग कक्षा 35, 985 लोग और दूसरा 84 देशों के लोगों का एक साथ भाग लेने का रिकॉर्ड बना।

PM मोदी के प्रस्ताव को मंजूरी मिली

11 दिसम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र में 177 सदस्यों द्वारा 21 जून को International Yoga Day को मानाने के प्रस्ताव को मंजूरी मिली। PM नरेंद्र मोदी का प्रस्ताव 90 दिनों के भीतर पूर्ण बहुमत से पारित हुआ, जो कि संयुक्त राष्ट्र संघ में किसी दिवस प्रस्ताव के लिए सबसे कम वक्त है।

4th International Yoga Day पर PM मोदी ने दी बधाई

International Yoga Day 21 जून को ही क्यों मनाया जाता है जानिए भारत सहित विश्वभर का रिकॉर्ड4th International Yoga Day पर देहरादून के भारतीय वन अनुसंधान परिसर के कार्यक्रम में PM मोदी ने भारत की देवभूमि से विश्वभर को इस दिन की बधाई दी है। उन्होंने कहा कि, उत्तराखंड कई दशकों से योग का मुख्य केंद्र रहा है। यहां के पर्वत-वायु भी योग के लिए प्रेरित करते हैं। यहां PM मोदी ने लगभग 55 हजार लोगों के साथ योग किया और कहा कि यह भूमि हर किसी को आकर्षित करती है।

PM मोदी ने कहा कि, दुनिया को भारत ने योग का तोहफा दिया है। यह स्वास्थ्य का पासपोर्ट है। योग दिवस स्वास्थ्य का सबसे बड़ा आंदोलन बन गया है। भारत योग का टॉप ब्रांड ऐम्बैसडर है। PM मोदी ने कहा कि, सभी भारतीयों के लिए गौरव की बात है कि, आज जहां-जहां उगते सूर्य के साथ जैसे-जैसे सूर्य अपनी यात्रा करेगा, दुनिया के उस भूभाग में लोग योग से सूर्य का स्वागत कर रहें हैं। देहरादून से लेकर डबलिन तक, शंघाई से लेकर शिकागो तक योग ही योग है। श्री मोदी ने पहला योग दिवस दिल्ली में, दूसरा चंडीगढ़ में, तीसरा लखनऊ में और आज चौथा योग दिवस देहरादून में मनाया है

भारतीय सेना, कई केंद्रीय मंत्रियों और राज्य मंत्रियों ने किया योग
International Yoga Day 21 जून को ही क्यों मनाया जाता है जानिए भारत सहित विश्वभर का रिकॉर्ड

PM मोदी ने ॐ के उच्चारण, सूर्य नमस्कार के साथ ही कई प्रकार के योगासनों का अभ्यास किया। भारतीय सेना ने 18,000 फिट ऊंचाई पर लद्दाख की ठण्ड में योग किया। योग गुरु बाबा रामदेव ने राजस्थान के कोटा में लगभग 2 लाख से अधिक लोगों के साथ योग करके गिनीज बुक वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया। राष्ट्रपति वेंकैया नायडू, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, राज्यपाल राम नाईक, यूपी के CM योगी आदित्यनाथ आदि ने योग किया। भारत के हर राज्य में इस अवसर पर कई कार्यक्रमों हुए एवं अच्छे स्वास्थ्य के लिए 4th International Yoga Day मनाया गया।

विश्वभर में 4th International Yoga Day मनाया गया
International Yoga Day 21 जून को ही क्यों मनाया जाता है जानिए भारत सहित विश्वभर का रिकॉर्ड

विश्वभर में International Yoga Day मनाया गया। म्यांमार के यांगोन में एक पार्क में लोगों ने योग किया और स्वस्थ्य रहने का मन्त्र लिया। जापान टोक्यो के जोजोजी मंदिर में इस अवसर पर खास प्रोग्राम हुआ जिसमे नौजवानों से लेकर बुजुर्गों तक ने भाग लिया। देश-विदेश के साथ ही भूमि, पर्वत, आसमान, और समुद्र सभी जगहों में भारत के योग मन्त्र को अपनाया गया।

5/5 (6)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image