“करोड़पतियों की कतार” कहलाने वाले लक्ष्मी मित्तल का जन्मदिन आज

0
29

“करोड़पतियों की कतार” कहलाने वाले लक्ष्मी मित्तल (Lakshmi Mittal) का जन्मदिन आजलक्ष्मी मित्तल (Lakshmi Mittal) का नाम आज किसने नहीं सुना होगा। लक्ष्मी मित्तल भारत के बड़े बड़े उद्योगपतियो की लिस्ट में शामिल है। इन्हे आर्सेलर मित्तल के सीईओ और चेयरमैन के रूप में भी जाना जाता है इनका नाम दुनिया के सबसे अमीर भारतीयों की सूचि में (फोर्ब्स) में शामिल है। इसके अलावा यह ब्रिटेन के सबसे धनी एशियाई और विश्व के 5वें सबसे धनी व्यक्ति है। इनका व्यवसाय का सबसे बड़ा भाग इस्पात क्षेत्र में है। इनकी खासियत यह है कि इतने बड़े व्यापारी होने के बावजूद भी दुनिया भर में इनका व्यपार फैला हुआ होने के बाबजूद भी इन्होने भारतीय नागरिकता नहीं छोड़ी है।

परिचय:

पूरा नाम – लक्ष्मी निवास मित्तल
जन्म – 15 जून 1950 (आयु 67)
जन्म स्थान – शादूलपुर, चूरु, राजस्थान
आवास – लंदन, ग्रेट ब्रिटेन
शिक्षा – सन 1957 से 1964 तक श्री दौलतराम नोपानी विद्यालय से पढ़ाई की। इसके बाद सेँट ज़ेवियर कॉलेज कोलकाता से बी.कॉम की डिग्री प्राप्त की।
व्यवसाय – उद्योगपति, आर्सेलर मित्तल के वर्तमान चेयरमेन
परिवार –
पिता – मोहन लाल मित्तल
माता – गीता मित्तल
पत्नी – उषा मित्तल

सम्मान –
  • पद्म विभूषण पुरस्कार (2008)
  • 2002 में लक्ष्मी मित्तल को ब्रिटेन के आठवे नंबर के सबसे अमीर व्यक्ति होने के का ख़िताब मिला। (उन्होंने ब्रिटेन की नागरिकता नहीं ली।)
  • 2011 में फ़ोर्ब्स की तरफ से उन्हें विश्व का छठा सबसे अमीर व्यक्ति होने के का ख़िताब मिला।
    2013 में लक्ष्मी मित्तल दुनिया के सबसे अमीर व्यक्तियों की सूचि में शामिल किया गया था। साथ ही वे विश्व के 57 वे सबसे शक्तिशाली व्यक्ति बने।
  • 2015 में भी लक्ष्मी मित्तल को फ़ोर्ब्स ने सबसे ताकतवर लोगो की सूचि में शामिल किया गया था।
शुरूआती जीवन:

लक्ष्मी मित्तल ने राजस्थान के एक परिवार में जन्म लिया इसके बाद यह कोलकाता चले गए। इन्होने वही शिक्षा प्राप्त की। इनके दो भाई भी हैं जिनके नाम प्रमोद मित्तल और विनोद मित्तल है। इन्होने मात्र 26 साल की आयु में व्यपार जगत में अपना पहला कदम रखा था।

करियर की शुरुआत:

लक्ष्मी मित्तल ने अपने करियर की शुरुआत अपने पिता मोहन लाल मित्तल के इस्पात के व्यवसाय से की थी। इन्होने मात्र 26 साल की आयु में सन 1976 में अपना पहला स्टील कारखाना ‘पी.टी. इस्पात इंडो’ इंडोनेशिया के सिद्देअर्जो में स्थापित कर लिया था। 1990 के दशक तक इनके व्यपार में सिर्फ नागपुर में शीट स्टील की एक कोल्ड रोलिंग मिल और पुणे के पास एक एलाय स्टील संयंत्र था। वर्तमान में मित्तल परिवार का व्यापार विनोद और प्रमोद मित्तल मुंबई के पास एक विशाल इंटीग्रेटेड स्टील संयंत्र के रूप में देख रहे है।

लक्ष्मी मित्तल से जुड़े कुछ बिंदु;
  •  इनका 2004 में ख़रीदा हुआ बंगला जो उन्होंने 128 मिलियन US डॉलर में ख़रीदा था उस समय वह विश्व का सबसे महंगा घर माना गया था। इस बंगले को ताज महल निर्मित संगमरमर के पत्थरो से सजाया गया है। उनके घर को “ताज मित्तल” भी कहा जाता था।
  • मित्तल ने अपनी बेटी वनिशा मित्तल का विवाह अमित भाटिया से किया था।
  • लक्ष्मी मित्तल को “स्टील किंग” भी कहा जाता है।
  • लक्ष्मी मित्तल शाकाहारी है।
  • मित्तल की संपत्ति को “करोड़पतियों की कतार” भी कहा जाता है।
  • दुनिया की सबसे बड़ी स्टील कंपनी आर्सेलर मित्तल के सीईओ लक्ष्मी नारायण मित्तल उर्फ़ लक्ष्मी निवास मित्तल की गिनती दुनिया के सबसे अमीर लोगो में होती है।
  • लक्ष्मी मित्तल ने ब्रिटेन में रहने के बावजूद भी भारत की नागरिकता नहीं छोड़ी।
  • अपने व्यापार के अलावा लक्ष्मी मित्तल दुनिया के सबसे महंगे मकानों में रहने के लिये भी प्रसिद्ध है।
  • उनकी बेटी का विवाह दुनिया में अब तक का दूसरा सबसे महंगा विवाह माना जाता है।
5/5 (1)

Please rate this

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Enter Captcha Here : *

Reload Image